अभयनाथ त्रिपाठी ने बसपा पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से दिया इस्तीफा

कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट


 


उत्तर प्रदेश में देवरिया विधानसभा की सदर सीट से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के उम्मीदवार रहे अभयनाथ त्रिपाठी ने शुक्रवार को बसपा पर परिवारवाद और जातिवाद का आरोप लगाते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।श्री त्रिपाठी ने यहां कहा कि मैं बसपा पार्टी से विधानसभा 337 देवरिया सदर उपचुनाव 2020 में प्रत्याशी था। बसपा की गलत नीतियों एवं कोऑर्डिनेटरों के मानसिक व आर्थिक प्रताड़ना की वजह से अपनी दोबारा पराजय के कारण पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे रहा हूँ। उन्होंने कहा कि देवरिया की जनता और बसपा के आम कार्यकर्ताओं के हित में यह निर्णय ले रहा हूं। उन्होंने कहा कि मैं देवरिया की जनता की सेवा में निरंतर कार्य करता रहूंगा।उन्होंने कहा कि बसपा ने मेरी सरकारी सेवा के समर्पण और त्याग को भी उपेक्षित किया है। जनता भविष्य में इसका जवाब देगी। देवरिया का विकास व जनता का सम्मान मेरी राजनीति का मूल उद्देश्य है। बसपा की स्थापना जिस उद्देश्य से मान्यवर कांशी राम साहब ने की थी उस मूल उद्देश्य से पार्टी भटक गई है। बसपा की मुखिया बहन मायावती अब केवल परिवारवाद व निजी स्वार्थ पर काम कर रहीं हैं। ऐसी स्थिति में पार्टी को छोड़ना ही मेरे लिए हितकर होगा। मैं बसपा से आज अपना रिश्ता तोड़ता हूं।