प्रशासन के निर्देश का नही कोई डर पराली जलाने से किसान के फसल मे लगी आग



*रिपोर्ट - प्रशांत श्रीवास्तव मेहदावल संत कबीर नगर*



मेहदावल - संत कबीर नगर जनपद के मेहदावल तहसील के अन्तर्गत ग्राम सभा भरथुआ मे पराली जलाने से खेत मे खडी धान की फसल भी जली 
वही जिले मे जहाँ तेज तर्रार जिलाधिकारी दिव्या मित्तल व कृर्षि विभाग के कर्मचारीयो का पराली को लेकर कडा निर्देश दिया था लेकिन क्षेत्रो मे जिलाधिकारी व कृर्षि विभाग के कर्मचारी के द्वारा दिये गए कडे निर्देश का भी असर नहीं है ज्यादातर फसलो की कटाई हो जाने के कारण प्राय: अधिकांश किसान खेतों में ही फसल के अवशेष जलाने लगे हैं,कृर्षि वैज्ञानिक का कहना है कि पराली जलाने से मिट्टी की उर्वरा शक्ति क्षीण होने के साथ ही वातावारण को भारी नुकसान पहुंचता है। इस दिशा में किसानों को बार-बार खेतों में पराली नहीं जलाने का निर्देश दिया गया है। उसके बावजूद इन आदेश का उललंघन कर खेतों मे कई जगह किसान फसल के अवशेष खेतों में जला दे रहे हैं। इससे मिट्टी की उर्वरा शक्ति कम होने के साथ साथ मिट्टी की सेहत पर काफी प्रतिकूल असर पड़ता है। वहीं दूसरी ओर अगर एक साथ अधिक मात्रा में पराली जलाए जाने से पर्यावरण को भी भारी नुकसान पहुंचता है।