प्रभारी मंत्री ने किया विकास कार्यो की समीक्षा
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया -जनपद के प्रभारी मंत्री एवं प्रदेश के उद्यान, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार, कृषि निर्यात राज्यमंत्री(स्वतंत्र प्रभार) श्रीराम चौहान ने कहा है कि सभी अधिकारी अपने विभाग से संबंधित विकास, निर्माण आदि कार्यो को समयबद्धता व गुणवत्ता के साथ लक्ष्यपूर्ति सुनिश्चित करें। जो काम रुके हो और अधूरे हो, उसे भी प्राथमिकता के साथ पूर्ण करें। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता कदापि न बरतें। इस दौरान नाबार्ड द्वारा तैयार की गयी जनपद के विकास के लिये सम्भाव्यतायुक्त ऋण योजना 3155 करोड के प्रस्ताव पुस्तिका का विमोचन भी उनके द्वारा किया गया। जनपद प्रभारी मंत्री श्री चौहान विकास भवन के गांधी सभागार में विकास कार्यो की समीक्षा कर रहे थे। इस दौरान उन्होने कहा कि अधिकारी कार्यो की समीक्षा करें, जहां त्रुटि रह गयी हो उसे दूर कर लक्ष्य की पूर्ति अनिवार्य रुप से करें। गलती दिखाईं दे तो उसे दूर करना चाहिये तथा गति को और तीव्र करते हुए कार्यो को पूरा करना चाहिये। उन्होने कहा कि आमजन को मूल सुविधायें मुहैया कराने के लिये सभी को कार्य करना चाहिये। कहा कि आप सभी के कंधें पर बहुत बडी जिम्मेदारी है, उस पर खरा उतरें तथा स्वयं चिन्तन करें व अपने विभाग की समीक्षा करें। कहा कि यदि कही कोई कोर कसर रह गयी है तो उसे पूरा करने में लगें। हर हाल में जनसुविधाओं से जुडे संरचनात्मक कार्यो में तीव्रता लाते हुए उसे पूर्ण करायें। प्रभारी मंत्री ने कहा कि शासन की संचालित योजनाओं को अमलीजामा पहनाना हम सभी का उत्तरदायित्व है। अच्छे कार्य से विभागो की छवि बनेगी तथा हिलाहवाली से विकास कार्य बाधित होगा वही हम सभी जनता के प्रति जबाबदेह होगें। जनता के हित के लिये कल्याणकारी योजनाये बनायी जाती है, उस पर अमल करना व उसे क्रियान्वित करते हुए लोगो तक उसका लाभ पहुॅचाना अधिकारियों की जिम्मेदारी होती है। इस लिये सभी विभाग सेवाभाव से कार्य करें। उन्होने पशुपालन विभाग को निर्देश दिया कि ठंढक का महिना है, गौआश्रय केन्द्रो में इसको लेकर कोई अव्यवस्था न हो, इसकी पूरी मानीटरिंग की जाये और जो भी जरुरत हो, उसकी पूर्ति की जाये। उन्होने यह भी कहा कि विकास कार्यो में बैंकों की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस लिये वे वित्तीय योजनाओं का लाभ जन सामान्य को दें, उसमें कोई हिलाहवाली न करें। खाद्यान्न उठान की समीक्षा के दौरान मंत्री जी ने कहा कि जहां से निकासी होती है, वहां चेकिंग करें कि कम राशन न आये। जिलाधिकारी ने कहा कि चेकिंग करायी जाती है तथा ऐसे लोगो को चिन्हित कर कार्यवाही की गयी है,एफआईआर भी दर्ज कराया गया है।राज्य मंत्री श्री चौहान द्वारा धान क्रय, नहरों की सिल्ट सफाई, सडकों के चैडीकरण व नये सडकों का निर्माण, सेतू निगम, कृषि विभाग, विधुत विभाग, सामुदायिक शौचालय, पंचायत भवन का निर्माण, पेयजल, अपशिष्ट प्रबंधन, प्रधानमंत्री आवास शहरी एवं ग्रामीण, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा, जन कल्याणकारी योजनाओं, आंगनवाडी केन्द्र भवनो का निर्माण, गन्ना मूल्य भुगतान, कौशल विकास, श्रम विभाग, बैंक कार्यो आदि की गहन समीक्षा किये व आवश्यक निर्देश दिये। जिलाधिकारी अमित किशोर ने बैठक में आई कमियों एव़ं समस्याओं का भी समयबद्धता के साथ निस्तारित किये जाने के निर्देश के साथ शिथिलता के लिये अधिकारियों को चेताया। उन्होने यह भी कहा कि मंत्री द्वारा जो भी निर्देश दिये गये है उसे समयबद्ध तरीके से क्रियान्वित करें तथा अपनी योजनाओं को गुणवत्ता के साथ पूर्ण करायें। उन्होने निर्देश दिया कि सभी अधिकारी अपने फोन को अटेन्ड करें और प्राप्त समस्याओं का आवश्यक समाधान सुनिश्चित करें। उन्होने गन्ना घटतौली न हो, इस पर प्रभावी नजर रखें जाने हेतु जिला गन्ना अधिकारी एवं वाट माप को संयुक्त रुप में निरीक्षण किये जाने का निर्देश दिया।आयोजित इस समीक्षा बैठक में सदर विधायक डा0सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी, सलेमुपर विधायक काली प्रसाद एवं रामपुर कारखाना विधायक प्रतिनिधि डा0संजीव शुक्ला एवं सदर सांसद प्रतिनिधि रविन्द्र प्रताप मल्ल द्वारा जन सुविधाओं से जुडे कई अहम बिन्दुओं को उठाया गया। समीक्षा बैठक में मुख्य राजस्व अधिकारी अमृत लाल बिन्द, जिला विकास अधिकारी श्रीकृष्ण पाण्डेय, डीसी मनरेगा गजेन्द्र तिवारी, उप कृषि निदेशक डा0एके मिश्र, एलडीएम राकेश श्रीवास्तव, प्रबंधक नाबार्ड संचित सिंह, डीएसओ बिनय कुमार सिंह, डीपीआरओ आनंद प्रकाश, डीएसटीओ मनोज श्रीवास्तव, मृत्युजन्य चतुर्वेदी, अधिशासी अभियंता पीडब्लूडी कमल किशोर, बीएसए सन्तोष कुमार राय, प्र0डीआईओएस पीके शर्मा, जिला प्रोबेशन अधिकारी प्रभात कुमार, अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी नीरज अग्रवाल, दिव्यांगजन सशक्तिकरण अधिकारी मीनू सिंह, अजय शाही, बैंकर्स गण सहित अन्य जुडे विभागो एवं कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी गण आदि उपस्थित रहे।