धुरिया समाज का संघर्ष जारी, एसडीएम से मिलकर मुख्य तीन बिन्दुओं पर की चर्चा
रवि प्रताप - ब्यूरो चीफ ,महराजगंज
 धुरिया जनजाति समाज व तहसील प्रशासन फरेन्दा के बीच एक अहम खुली बैठक आयोजित की गई जिसमें धुरिया समाज द्वारा मुख्य तीन बिन्दुएं पर बात रखी गई। शासनादेश दिनांक 23 अक्टूबर 2020 संख्यासंख्या 176 मंत्री/26-3-2020 के प्रावधानों के अनुसार धुरिया मूलजाति की जांच हो, धुरिया समाज के जिलाध्यक्ष राजमंगल धुरिया ने माग किया कि प्रशासन यह बताए कि अगर हम धुरिया नही है तो प्रशासन हमें शासनादेश में वर्णित किस मूलजाति की मानती है। धुरिया समाज का प्रतिनिधित्व करते हुए क्षेत्रीय विधायक बजरंग बहादुर सिंह ने कहा कि निष्पक्ष होकर शासनादेशो के अनुसार जांच करते हुए धुरिया अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र जारी करें अन्यथा यह बात विधानसभा में उठाते हुए तहसील प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वही जिला पंचायत प्रत्याशी राहुल शर्मा ने तीन बिन्दुओ पर जांच कराने की माग करते कहा कि 1891 जनगणना वर्ष के अनुसार जांच हो, साथ ही साथ यह भी जांच की आवेदक किस मूलजाति के है फिर भी अगर आवश्यकता पड़ी तो धुरिया समाज के साथ संघर्ष और आंदोलन किया जायेगा। बैठक में धुरिया समाज के जिला महामंत्री रमेश धुरिया जिलाउपाध्यक्ष, जयगांधी धुर्वा, रामबालक धुरिया, रामलाल धुरिया, शंकर धुरिया, सियाराम धुरिया, राधेश्याम धुरिया सतेन्द्र धुरिया, भूमक सतीश चन्द्र, दिनेश धुर्वे तहसील अध्यक्ष बनवारी धुरिया के साथ साथ हजारों की संख्या में धुरिया समाज के लोग उपस्थित रहें।।