विकासखंड बेटा के ग्राम पंचायतों में बनाए जा रहे सार्वजनिक शौचालयों में मानक विहीन सामग्री का प्रयोग कर धन का किया जा रहा बंदरबांट
रिपोर्ट पी एन वर्मा ब्यूरो सीतापुर पीएसबी ब्यूरो सीतापुर जहां एक तरफ प्रदेश सरकार स्वच्छ भारत मिशन अभियान चलाकर खुले में शौच मुक्त प्रदेश देखना चाहती है वहीं सरकार के कुछ लोग सरकार की महत्वकांक्षी योजना को पलीता लगाते दिख रहे हैं प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद सीतापुर की विकासखंड बेहटा की ग्राम पंचायतों में बनवाए जा रहे सार्वजनिक शौचालय में मानक विहीन सामग्री का प्रयोग करके सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई धनराशि का ग्राम पंचायत अधिकारी व ठेकेदार कर रहे बंदरबांट विकासखंड बेटा में चाहे आवास हो चाहे एल ओ बी शौचालय या एसबीएम शौचालय व सार्वजनिक शौचालय सभी को ग्राम प्रधानों द्वारा ठेकेदारों द्वारा बनवाया जाता है आवासों में वित्तीय अधिकार सीज होने के बावजूद भी एडीओ पंचायत की मिलीभगत से ग्राम पंचायत सचिव द्वारा लगाए गए दलाल वित्तीय अधिकार सीज प्रधानों के दलाल आज भी आवास लाभार्थियों से 20,000 से 30,000 रुपया प्रति आवास व प्रति शौचालय ₹2000 वसूला जा रहा है पिडुरिया जल्लापुर महासी तेजवापुर सेखनापुर दारापुर अमर नगर गौर चौखड़िया चांदीखेड़ा रोहिया शिवपुर मखूबेहड बसंतपुर गांव के लाभार्थी अवैध वसूली के संबंध में कई बार ब्लॉक से लेकर जिला स्तर के अधिकारियों को शिकायत कर चुके हैं लेकिन अधिकारियों के कान में आज तक नहीं रेंगी ना किसी ग्राम पंचायत में आज तक जांच कराई गई क्षेत्र के राजकिशोर मंगला प्रसाद राम मोहन विनय कुमार सत्रोहन लाल दीनबंधु लालता प्रसाद आदि लोगों ने उपरोक्त ग्राम पंचायतों में किए गए विकास कार्यों की जांच कराए जाने की मांग की है