ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत समूह गठन हेतु अभियान
इटावा : उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत जनपद इटावा के समस्त विकास खंडों में 45 दिवस के लिए आईसीआरपी ड्राइव का शुभारंभ डॉ. राजा गणपति आर. मुख्य विकास अधिकारी के निर्देशन में सोमवार विकास भवन से किया गया। बृजमोहन अंबेड उपायुक्त स्वरोजगार ने बताया कि ये लोग ग्रामीण क्षेत्रों में रह कर वंचित परिवार की पहचान करेगी और उन्हें समूह से जोड़कर गरीबी, लेखांकन पुस्तिकाओं का रख - रखाव संबंधी प्रशिक्षण देगी। समूह के पंचसूत्र का महत्व बताएगी। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के प्रभाव के बावजूद महिलाओं ने चालू वित्तीय वर्ष में 1602 समूह का गठन किया है जो प्रशंसा के काबिल है। नन्दकिशोर साह, जिला मिशन प्रबंधक एसएमसीबी ने बताया कि चालू ड्राइव में 29 दल सभी विकास खण्डों में भेजी गई है। इटावा से आईसीआरपी अब तक फिरोजाबाद, बुलंदशहर, मेरठ, औरैया, चित्रकूट, झांसी, हथरस, कासगंज जिलों में जाकर सेवा दी है। विप्लव भूषण जिला मिशन प्रबंधक एमआईएस ने बताया कि जनपद इटावा में अब तक 6119 समूह एवं 473 ग्राम संगठन का गठन किया जा चुका है। इसमें 70 हजार महिलाएं जुड़ी हुई है। संतोष कुशवाहा जिला मिशन प्रबंधक माइक्रोफाइनांस ने कहा कि अभियान में सीआरपी घर-घर जाकर सर्वे करके गरीब को पहचान करेगी व उनको समूह में जोड़ेगी। समूह सखी का चयन कराएगी। ये मुख्य रूप से समूह का खाता खुलवाने, पंच सूत्र का पालन कराने, समूह के रजिस्टर लिखवाने का कार्य करेगी। महिलाओं ने कहा कि जीवन की सुरक्षा के लिए समूह की ज़रूरत है। इससे बचत की भावना को बढ़ाना मिलती है, आत्म -सम्मान और गौरव का अनुभव होता है। हमारा बुढापा समाज या परिवार का बोझ ना बने इसलिए गरीब महिलाओं के बीच आपसी एकता की भावना को बढ़ावा देने के लिए समूह की आवश्यकता है। जहाँ गरीब महिलाएं अपनी- अपनी समस्या पर चर्चा करके एक- दूसरे के सहयोग से अपनी जीवनशैली में बेहतरीन बदलाव के लिए निर्णय ले सके। मौके पर ब्लॉक मिशन प्रबंधक मनीष कुमार सिंह, कुलदीप समाधीया, शशि कुमार, रावेन्द्र सिंह, खुशबू कुमारी, मंगल देवी, रजनी, पूनम देवी, शिव कुमारी, राजकुमारी सहित सभी टीम के सदस्य मौजूद रही।