सरकार के दावों की खुली पोल
आलोक सिंह ब्यूरो चीफ बहराइच
तेजवापुर सरकार के दावे कहीं कहीं नाकाम नजर आते दिखाई देती हैं इसमे चाहे क्षेत्रीय क्रमचारियों की नजर अन्दाजी का कारण हो या लापरवाही गिरधारी यादव पुत्र मेवालाल यादव जो दोनों आंखों से अन्धा है और चौराहे पर घूम घूम कर मांगता रहता है और किसी तरह मांग कर अपना और.अपनी अंन्धी.मां की भी देख भाल करता है गिरधारी ने बताया कि मेरी मां भी दोनों आंखों की अन्धी है जिसे आज तक सरकार द्वारा कोई भी सहायता नहीं दी गई हैं यहाँ तक कि कडेके की.ढंड पडने के बावजूद दोनों को कम्मल तक नहीं दिया गया है. दोनों मां बेटे. का क्या हालत इस टंड मे होती होगी जरा क्षेत्रीय क्रमचारी इस बात को सोचले.