प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत ग्रामीण को किया गया जागरुक
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया-प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण एवं मुख्य मंत्री आवास योजना ग्रामीण के पारदर्शी एवं शुचितापूर्ण ढंग से क्रियान्वयन हेतु आज शासन के निर्देश के क्रम में मुख्य विकास अधिकारी एवं जिलाधिकारी देवरिया के निर्देशानुसार प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण एवं मुख्य मंत्री आवास योजना-ग्रामीण के अन्तर्गत वर्ष 2020-21 में आवंटित आवासों के लाभार्थियों को जनपद के समस्त विकासखण्डों के समागार में खण्ड विकास अधिकारियों द्वारा प्रशिक्षित एवं जागरूक किया गय। सभी लाभार्थी अपनी बैंक पास बुक एवं मनरेगा जॉब कार्ड सहित उपस्थित हुए थे। लाभार्थियों को यह बताया गया कि किसी भी लाभार्थी को किसी भी सरकारी अथवा गैर सरकारी व्यक्ति को आवास अथवा अन्य किसी भी योजना में कोई भी धनराशि नही देनी है एवं प्रत्येक दशा में अपनी बैंक पास बुक एवं जॉब कार्ड अपने पास ही रखना है। लाभार्थी स्वंय बैंक से धनराशि आहरित कर सामग्री क्रय करते हुए आवास का निर्माण करेंगे। यदि कोई भी व्यक्ति धनराशि की मॉग करता है तो खण्ड विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक के साथ-साथ उच्चाधिकारियों को भी अवगत कराया जाये जिससे प्रकरण को संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित के विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। उल्लेखनीय है कि जनपद में कुल 7605 लक्ष्य के सापेक्ष कुल 7543 आवासों को स्वीकृत करते हुए लाभार्थियों के खाते में प्रति लाभार्थी कुल 120000.00 रू० की धनराशि अंतरित की गई है। जिसमें प्रथम किस्त के रूप में 40000.00 रू०, द्वितीय किस्त के रूप में 70000.00 रू0 एवं तृतीय किस्त के रूप में 10000.00 रू० की धनराशि प्रत्येक लाभार्थी को दी जानी है। साथ ही महात्मा गाँधी नरेगा योजना से 90 मानव दिवस की मजदूरी 18090.00 रू0 भी आवास निर्माण हेतु दी जाएगी। जिन लाभार्थियों के शौचालय नही बने है उनका शौचालय भी बनवाया जायेगा।