जिला कारागार में किया गया जेल लोक अदालत का आयोजन
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
आज जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के तत्वावधान में जेल लोक अदालत का आयोजन किया गया, जिसमें कारागार से प्राप्त 05 मामलों को प्राप्त प्रार्थना पत्र के आधार पर अपर सिविल जज अंकित राज सिंह देवरिया द्वारा मौके पर ही सुनवाई करते हुये निस्तारित किया गया। जिसमें मो0 फिरोज उर्फ गुड्डू पुत्र आगरे मियां अ0सं0 22/19 धारा 392, 411 आई0पी0सी0 निवासी प्रेमहाता थाना मुफस्मिल जिला सीवान, सिकन्दर यादव पुत्र त्रिभुवन यादव अ0सं0 236/20 धारा 3/25 आम्र्स एक्ट थाना एकौना जिला देवरिया, सुरेन्द्र मौर्या अ0स0 5476/20 धारा 03/25 आम्र्स एक्ट थाना खामपार, सलमान खान अ0स0 5905/20 धारा 379,411 आई0पी0सी0 थाना कोतवाली, का मामला था। तथा अन्य बंदियों के मामलों को आगामी जेल लोक अदालत में निस्तारण हेतु चिन्हित किया गया। इस दौरान जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के सचिव न्यायाधीश शिवेन्द्र कुमार मिश्र द्वारा जेल में निरूद्ध बंदियों की समस्याओं की सुनवाई सुनिश्चित करते हुये जेल के बंदियों के सुरक्षा, स्वास्थ्य, गुणवत्ता पूर्ण भोजन, विधिक सहायता, स्वच्छता पर जोर देते हुये कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण समस्त बंदियों के विधिक सहायता व विधिक साक्षरता प्रदानकरने हेतु सदैव तत्पर हैं। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के समन्वय से आज लोक अदालत का आयोजन किया गया जिसमें बंदियों के उनके विधिक सहायता का प्रदान किया गया। महिला बंदियों के साथ रह रहें बच्चों के नियमित देखभाल,नियमित स्वास्थ्य जाॅच, पौष्टिक आहार तथा मौसम के अनुसार कपड़ों को देने हेतु निर्देशित किया गया। बच्चों के लिए विशेषकर गर्म भोजन एवं गर्म कपड़ों की उचित व्यवस्था हेतु निर्देश दिया गया। जिला कारागार के परिसर को नियमित रूप से साफ-सफाई एवं जल जमाव की स्थिति में मच्छरों से बचाव हेतु दवा का छिड़काव कराया जाये। जो बंदी जेल अस्पताल में भर्ती हैं उनके इलाज में कोई असावधानी न बरती जाये, समय से जाॅच व उनके समुचित इलाज तथा दवा देने हेतु निर्देशित किया गया। जिला कारागार के पी0एल0वी0 को निर्देशित किया गया कि वे जिन बंदियों को विधिक सहायता की आवश्यकता हैं, उनसे प्रार्थना पत्र लेकर अविलम्ब जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया को उपलब्ध कराये जिससे उन्हें विधिक सहायता दी जा सकें। उक्त अवसर पर जेल अधीक्षक के0पी0 त्रिपाठी, जेलर जितेन्द्र तिवारी, डिप्टी जेलर वंदना त्रिपाठी, डाॅक्टर हरपाल शर्मा, व अन्य उपस्थित रहें।