सर्द हवा व गलन से कांप रहे जनपदवासी
जिला प्रभारी राजीव कुमार पांडेय की रिपोर्ट
गाजीपुर । पुरे पूर्वांचल में सर्द हवा व गलन से लोग कांफ रहे हैं। इसका असर लहुरीकाशी में जबरदस्त देखने को मिल रहा है । इन दिनों शीतलहरी के कारण कंपकंपाने वाली ठंड पड़ रही है । फरवरी महीने के शुरूआती दिनों में लगातार बढ़ रही गलन व न्यूतम तापमान ने इस बार रिकार्ड तोड़ दिया है । पिछले तीनों से तापमान छह से पांच के बीच रह रहा है । यह बुजुर्ग व बच्चों के लिए खतरनाक साबित हो रहा है । सोमवार को दिन में हल्की धूप निकलने के बाद भी गलन बढ़ने से शरीर एवं हाथों की अंगुंलियां कांपती रही । कई दिनों से पड़ रही भीषण ठंड से लोगों को राहत नही मिल रही है । सुबह से ही ठंड हवा के साथ बढ़ी गलन ने लोगों को घरों में कैद कर दिया है । नगर से लेकर ग्रामीण इलाके तक ठंड से लोगों की दिनचर्या डमाडोल हो गई है ।इस माह में के कड़क तेवर से स्थिति यह है आवश्यक कार्य होने के बाद भी घरों में बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। हालांकि कोहरे का भी असर कभी-कभी दिखाई दे रहा है । सुरज निकलने से पहले सुबह कोहरे की चादर आसमान में छाई रही ।पूर्वाह्न दस बजे के बाद कोहरा छंटा और धूप खिली । लेकिन ठंड के साथ बढ़ी गलन से ही लोग हलाकान रहे ।ठंड का असर इस कदर प्रभावी रहा कि घरों में लोग अलाव, हीटर के सहारे वक्त गुजारते रहे । धुप निकलने के बाद कुछ समय के लिए जरूरी काम निबटाने लोग घेरों से बाहर निकले । उधर सड़क के साथ ही रेल यातायात भी सोमवार को प्रभावित रहा ।कई ट्रेनें अपने समय से विलंब से गजरीं, तो रोडवेज बसें भी भोर में चलने के बजाए पूर्वाह्न आठ बजे के बाद ही डिपो से बाहर निकलीं । घने कोहरे की चादर तन जाने से बसों का संचालन प्रभावित रहा ।लोकल बसों को छोड़कर दूर जाने वाली में यात्री तक नहीं पहुंचे थे ।यही हाल प्राइवेट बस अड्डे व टैक्सी स्टैंडो का रहा।बजारों में दुकानदार व चट्टी चौराहे पर चालक परिचालक स्वयं के जुगाड़ से कुड़ा कचरा, टायर, प्लास्टिक, कागज, घास जलाकर अलाव ताप रहे हैं । दुकानदार दुकानों पर काम कम अलाव तापते ज्यादा दिखाई दिए ।