दोहरे हत्याकांड का खुलासा कातिल निकला पिता*
सदर तहसील कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट। गाजीपुर
गाजीपुर। आखिरकार पुलिस ने अपनी जांच पूरी करते हुए दोहरे हत्याकांड का खुलासा कर दिया। आज पुलिस अधीक्षक डा.ओमप्रकाश सिंह ने पत्रकार वार्ता में जानकारी देते हुए बताया कि मृतका के पिता ने ही अपनी बेटी और उसके प्रेमी को मौत की नींद सुलाया था। पुलिस ने उस हत्याकांड में संलिप्त पांच लोगों को मीडिया के सामने पेश किया। बताते चलें कि जिले के खानपुर थाना क्षेत्र के इचावल गांव की युवती सानिया का शव मंगलवार की सुबह उसके घर के पीछे गेहूँ के खेत में मिला था। इसके एक दिन पूर्व ही खानपुर थाना क्षेत्र के ही रामपुर गांव के जलनिगम पानी टंकी के समीप सोमवार की अलसुबह बभनौली कला निवासी अजय यादव पुत्र रामप्रताप यादव की सिर में गोली मारी गयी थी जिसकी वाराणसी में इलाज के दौरान कल ही मौत हो गयी थी। उच्चाधिकारियों के निर्देशानुसार खानपुर पुलिस अन्य अधिकारियों के सहयोग से दोनों घटनाओं की जांच पड़ताल में लगी रही और अन्ततः दोनों हत्याओं का खुलासा किया। पुलिस ने मृतका सानिया के पिता राजेश सिंह पुत्र अवधराज सिंह, मां नीलम सिंह और भाई दीपक सिंह सहित अवध राज सिंह पुत्र स्व. देवप्रसाद सिंह व अंकित सिंह पुत्र संजय सिंह को गिरफ्तार करते हुए हत्या में प्रयुक्त दो पिस्टल और जिंदा कारतूस भी बरामद कर लिया। पत्रकार वार्ता में पुलिस कप्तान ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त मृतका के पिता राजेश सिंह ने अपना अपराध स्वीकार करते हुए कहा कि एक माह पूर्व ही मुझे,मेरी पत्नी और पुत्र दीपक सिंह को जानकारी हुई कि मेरी पुत्री सानिया सिंह ने क्षेत्र के बभनौली निवासी अजय यादव से दो वर्ष पहले ही कोर्ट मैरिज कर ली है और दोनों में प्रेम चल रहा है। इस जानकारी के बाद मैंने अपनी पुत्री को इसके लिए समझाया परन्तु वह मानने को तैयार नहीं थी। इस बीच प्रेमी सिपाही अजय यादव अपनी बहन की शादी समारोह में सम्मिलित होने के लिए छुट्टी पर अपने घर आया था। हमारे परिवार ने यह जानकारी पाकर सानिया के मोबाइल से मैसेज कर अजय यादव को समझाने के उद्देश्य से अपने घर बुलाया। उसी समय सानिया के न मानने पर गुस्से में आकर पिता राजेश सिंह ने अपनी पुत्री सानिया को गोली मार दी। इसके कुछ समय बाद अजय यादव भी उनके घर आ धमका। परिवार के लोगों ने उसे समझाने का काफी प्रयास किया परन्तु वह मानने को तैयार नहीं रहा। यह देखकर परिवार के लोगों ने निर्णय लिया कि अजय यादव को कहीं अन्यत्र ले जाकर बात की जाये और फिर हमलोग अजय यादव को रामपुर ले गये और सुनसान स्थान पर गोली मार दी थी। पुलिस नेसभी हत्यारोपियों को न्यायालय में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।डबल मर्डर केस का पर्दाफाश करते हुए हत्याभियुक्तों को गिरफ्तार करनेवाली टीम में प्रभारी निरीक्षक अपराध सैदपुर विश्वनाथ यादव, प्रभारी स्वाट टीम /सर्विलांस टीम निरीक्षक विनीत राय, थानाध्यक्ष खानपुर उपनिरीक्षक जितेंद्र बहादुर सिंह, उप निरीक्षक कृष्णानंद यादव व प्रमोद कुमार सिंह सहित सर्विलांस सेल,स्वाट टीम व खानपुर की पुलिस टीम की महत्वपूर्ण भूमिका रही।