धूमधाम से मनाई गई संत रविदास की जयंती
सदर तहसील कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट। गाजीपुर
संत रविदास जी 15 वी ,16वी शताब्दी में एक महान संत दर्शनिक, कवि, समाज सुधारक और भारत में भगवान के अनुयायी हुआ करते थे निर्गुण संप्रदाय के लिए बहुत प्रसिद्ध संत थे, जिन्होंने उत्तरी भारत में भक्ति आंदोलन का नेतृत्व किया था। रविदास जी बहुत अच्छे कवितज्ञ थे। उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से, अपने भक्तों समाज एवं देश के कई लोगों को धार्मिक एवं सामाजिक संदेश दिया रविदास जी की रचनाओं में उनके अंदर भगवान के प्रति प्रेम की झलक साफ दिखाई देती थी, वह अपनी रचनाओं के द्वारा दूसरों को भी परमेश्वर से प्रेम के बारे में बताते थे और उनसे जुड़ने के लिए कहते थे बहुत लोगों ने अपना मसीहा मानते थे क्योंकि उन्होंने सामाजिक और आध्यात्मिक आवश्यकता को पूरा करने के लिए बड़े-बड़े कार्य किए। बहुत से लोग इन्हें भगवान की तरह मानते हैं। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में संत रविदास की जयंती धूमधाम से मनाई गई। जगह जगह उनकी मूर्ति स्थापित कर पूजन अर्चन किया गया। साथ ही उनके बताए रास्ते पर चलने का संकल्प भी लोगों ने लिया।संत रविदास की मूर्ति को रख कर पूजा अर्चना की गई और झांकी भी निकाली गई।