बूथ स्तर पर कमेटियां गठित करने में तेजी लाये--छत्रपाल यादव
रिपोर्ट पी एन वर्मा ब्यूरो चीफ सीतापुर
सीतापुर-- समाजवादी पार्टी की मासिक बैठक पार्टी के जिला मुख्यालय सीतापुर मे जिलाध्यक्ष क्षत्रपाल सिंह यादव की अध्यक्षता मे आहूत की गयी, बैठक का संचालन जिला महासचिव मसूद आलम अंसारी ने किया। बैठक मे जिलाध्यक्ष के द्वारा विधानसभावार संगठन की समीक्षा की गयी,और बूथ कमेटियों के गठन मे और तेजी लाने को कहा गया | इसी क्रम मे प्रकोष्ठों व ब्लॉक अध्यक्षों की समीक्षा तथा जिले के समाजवादी पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर चर्चा करने के उपरांत आगामी पंचायत चुनावों पर गंभीरता के साथ क्षेत्र वार समीक्षा व पंचायत चुनाव के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गयी | उन्होंने कहा कि वर्तमान देश व प्रदेश की भाजपा सरकार लगातार किसानों का शोषण करती आ ही रही थी,कि किसानों के पारिवारिक और आर्थिक शोषण को जन्म देता ये किसान विरोधी काला कानून किसानों के जख्मों पर पर नमक डालने का काम कर रही है | जब भाजपा सरकार इस देश व प्रदेश मे विपक्ष मे थी तो किसानों की आय दोगुनी करने का राग आलाप रहे थे,पर आज जब उन्ही किसानों के सहयोग से उनके वोट से भाजपा के सत्ता मे स्थापित हो गयी है,फिर भी कथित किसान हितैसी भाजपा सरकार को किसानों का ये दर्द दिखाई नही देता और न ही सुनाई देता है | भाजपा सरकार के प्रदेश में पांच साल पूरे होने को है। इसके 5 बजट आ चुके हैं। भाजपा ने जो चुनावी संकल्प पत्र जारी किया था, उसमें किए गए वादे भी पूरे नहीं हुए है। चार साल में भाजपा सरकार ने समाजवादी पार्टी के कामों का नाम बदलने के अलावा कुछ नहीं किया। दरअसल, भाजपा के पास विकास का विजन ही नहीं है। शिक्षा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में समाजवादी पार्टी ने जो काम किए थे भाजपा ने सिर्फ उन योजनाओं के नाम बदलना ही सीखा है। उत्तर प्रदेश विकास के क्षेत्र में पीछे चला गया हैं। भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार कई रूप में जनता को दिख रहा है। पुलिस और तहसील के भ्रष्टाचार से आम जनमानस त्रस्त है। कोरोना काल से उपजे आर्थिक संकट की मार से जनता की कमर टूट गई है। डीजल-पेट्रोल के दाम बेलगाम है। रसोई गैस की बढ़ी कीमतों ने लोगों का बजट खराब कर दिया है। नौजवानों के सामने रोजगार का संकट बना हुआ हैं। भाजपा सरकार ने युवाओं को मोबाईल में उलझा दिया हैं। सरकार की दोषपूर्ण नीतियों से नयी पीढ़ी का भविष्य असुरक्षित हो गया है। कृषि कानून खतरनाक कदम है। बिना खेती के कोई विश्वगुरू नहीं बन सकता। केन्द्र की भाजपा सरकार को यह जान लेना चाहिए कि किसानों का उत्पीड़न कर कोई सत्ता में नहीं टिक सकता। जनता परिवर्तन के लिए बस सन् 2022 के विधानसभा चुनावों का इंतजार बेसब्री से कर रही है। सबकी निगाहें समाजवादी पार्टी पर लगी हैं। इस अवसर पर पूर्व विधायक अनूप गुप्ता,पूर्व प्रत्याशी अफजाल कौसर अंसारी,पूर्व प्रत्याशी अशफाक़ खाँ,जिला उपाध्यक्ष विजय वर्मा,जिला सचिव संजय सिंह,मनोज भारती,चन्द्रशेखर यादव,रमेश निषाद,सुहैल अहमद,संदीप कुमार गुप्ता,मो. बिलाल,नदीम अहमद,कय्यूम कुरैशी,विधानसभा अध्यक्ष महेंद्र यादव,शिवप्रसाद यादव,धर्मेंद्र राजवंशी,सीताराम यादव,मो कादिर खाँ,लोहिया वाहिनी नि. जिलाध्यक्ष रिजवान अहमद,शिक्षक प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष विजयबहादुर यादव,महिलासभा जिलाध्यक्ष श्रीमती शमीम बानो,अल्पसंख्यक सभा जिलाध्यक्ष डॉ शफीक खां,अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष डॉ चंद्रभाल भार्गव,व्यापार सभा जिलाध्यक्ष ऋषिराज सिंह,शफीक सैफी,बदलूराम निषाद,श्रीपाल वर्मा,उषा रावत,मीनू गुप्ता,राजकिशोर गौतम,श्रीपाल यादव,अरशद खाँ,शंकरलाल यादव,विष्णु गौतम,कपिल मिश्रा,प्रवीण सिंह यादव,रवीद्र कुमार सिंह,अशोक कुमार,जगतपाल यादव,पुष्कर शुक्ल,अरुण कुमार मिश्रा,शिवम मिश्रा,नवीन प्रकाश सिंह,मो. नादिर,रियाज़,अनस खान,वीरेंद्र अवस्थी,रमाकांत अवस्थी,शिवपाल यादव,बलराम यादव,रामदत,संतोष यादव,आदि लोग मौजूद रहे |