शस्त्र न जमा करने पर 48 के खिलाफ मुकदमा
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
पंचायत चुनाव को शांतिपूर्ण ढंग से कराने के लिए पुलिस ने अब सख्ती दिखाना शुरू कर दिया है। सदर कोतवाली क्षेत्र के 48 लाइसेंसी असलहाधारियों पर असलहा जमा नहीं करने पर मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अधीक्षक ने एक सप्ताह पूर्व 24 घंटे के अंदर सभी असलहा धारियों से असलहा जमा करने को कहा था, लेकिन इसके बावजूद भी 48 लोगों ने अपने असलहे जमा नहीं किए। अब कोतवाली ने अनुराग जायसवाल निवासी मेहड़ा, सुरेंद्र चौरसिया निवासी उमानगर, सुनील गुप्त निवासी रामनाथ देवरिया,मन्नू सिंह निवासी गायत्रीपुरम, अवधेश पाल निवासी बांस देवरिया, सौरभ बरनवाल निवासी आचार्य रामचंद्र शुक्ल देवरिया, रजनीश कुमार सिंह निवासी ठठेरी गली, आलोक मिश्र निवासी उमानगर, धनंजय दीवाकर निवासी भटवलिया, हरि नारायण यादव निवासी इटवा, राजेश प्रताप शाही निवासी पैकौली हाउस राघव नगर, शशिकांत मणि निवासी विक्रमपुर बांसपार, राधेश्याम शुक्ल निवासी मेहड़ा पूरवा, दीनानाथ उपाध्याय निवासी रामनाथ देवरिया, भूपेंद्र उपाध्याय निवासी बांस देवरिया, सत्य नारायण यादव निवासी नेहरू नगर, गणेश सिंह निवासी न्यू कालोनी, प्रमोद कुमार यादव निवासी चकियवा, जयप्रकाश यादव निवासी राम गुलाम टोला, ज्ञानेश्वर पांडेय निवासी राम गुलाम टोला, संतोष श्रीवास्तव निवासी साकेतनगर, अनिल सिंह निवासी राघव नगर, चंद्रशेखर दीक्षित निवासी रसड़ा कोठी गरुलपार, कन्हैया राम निवासी शास्त्री नगर, हरेंद्र यादव निवासी सोनहरिया, राजेश सिंह निवासी उमानगर, नित्या नंद पांडेय न्यू कालोनी, राजेश प्रताप शाही निवासी राघव नगर, जटाशंकर मणि निवासी गोविदपुर, विष्णु कुमार अग्रवाल निवासी भीखमपुर, हरेंद्र गोविद राव निवासी राघव नगर, सत्यदेव यादव निवासी बरवा गोर स्थान, संजय बरनवाल निवासी अंसारी रोड, मनोज कनोडिया निवासी भीखमपुर रोड, डा.अशोक कुमार राय निवासी सावित्री नर्सिंग होम, निशीरंजन तिवारी रामनाथ देवरिया, कपिलदेव सिंह निवासी बरवा गोर स्थान, रामसिंह निवासी पुरवा चौराहा, अनूप मिश्र निवासी गोबराइ, गिरेंद्र मणि निवासी विक्रमपुर बांसपार, विजय चौधरी निवासी पुराना बस स्टेशन, प्रमोद अग्रवाल निवासी आर्य समाज गली, ओमप्रकाश मणि निवासी रामनाथ देवरिया,श्रीकृष्ण सिंह निवासी भटवलिया, विश्वनाथ कनोडिया निवासी भीखमपुर रोड, श्यामजी निवासी रामगुलाम टोला के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। कोतवाल राजू सिंह ने कहा कि मुकदमा दर्ज करने के बाद असलहा बरामद किया जा रहा है।