खारिज होते-होते बचा डा०वंदना यादव का पर्चा
कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर-त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का मेला अपने चर्मोत्कर्ष पर है।ऐसे मे सभी प्रत्याशी इस प्रयास मे प्रारंभ से ही लगे हुए थे कि नामांकन फार्म के साथ लगने वाले कागजात सही हो,नामांकन फार्म सही सही भरा जाये।नामांकन पत्रों की जाँच मे मनिहारी विकास खण्ड के पंचम के वार्ड नंबर 21 से भाजपा समर्थित जिला पंचायत सदस्य के रूप में चुनावी मैदान में उतरीं डा० वंदना यादव के पर्चा को लेकर घंटों पंचायत चली। अंततः उनके चुनाव लड़ने पर मुहर लग गई।दरअसल, एडीएम राजेश कुमार सिंह पर जिला पंचायत के सदस्यों के नामांकन पत्रों के जांच की जिम्मेदारी थी।उन्होंने पाया कि बंदना का प्रस्तावक विजय छेदी का नाम वार्ड संख्या 21में नहीं है। चूंकि आयोग के गाइड लाइन के अनुसार प्रस्तावक उसी वार्ड का होना चाहिए। ऐसे में पर्चा खारिज होने का खतरा मंडराने लगा।इसकी जानकारी से हलचल मच गई। बाद में मामला सीडीओ तक गया। फिर डीपीआरओ कार्यालय से जांच के बाद बकायदा लिखकर दिया गया, तब जाकर पर्चा वैध माना गया। उधर, अन्य 17 पर्चे किन्हीं न किन्हीं कारणों से निरस्त किए गए,जबकि अंतिम रिपोर्ट आनी बाकी थी। नामांकन पत्रों की जांच के बाद बुधवार को नाम वापसी और तीन बजे से चुनाव चिन्ह का वितरण उम्मीदवारों को किया जाएगा।एडीएम राजेश कुमार के अनुसार पहले की सूची के मुताबिक प्रस्तावक विजय छेदी का नामवार्ड संख्या 21 में नहीं था। बाद में डीपीआरओ ने लिखकर दिया कि यह बूथ दो वार्डों में बंटा है।डीपीआरओ द्वारा लिखित जानकारी मिलने के बाद डा०वंदना यादव का पर्चा वैध माना गया।