रिटायर होकर गांव लौटे फौजी का हुआ भव्य स्वागत
राकेश कुमार यादव की रिपोर्ट
*कारगिल युद्ध सहित देश हित की कयी महत्वपूर्ण लड़ाईयां लड़कर भी बाल-बाल जिंदा बचे बछवाड़ा(बेगूसराय):- देश की रक्षा में शहीद हुए सैनिकों के सम्मान में काफिला व रोड शो निकलते हुए आपने जरूर देखा होगा। मगर किसी फौजी के रिटायर होकर गांव पहुंचने पर भव्य स्वागत रोड शो व काफिला बछवाड़ा के लोगों नें शायद पहली बार देखा है। बताते चलें कि दियारा क्षेत्र के दादुपुर पंचायत अंतर्गत रानी टोल निवासी नरेश प्रसाद जायसवाल 03 मार्च 1997 को बतौर जीडी सैन्य प्रशिक्षण केन्द्र मुजफ्फरपुर से देश सेवा में अपना कदम रखा। अपने सेवाकाल के दौरान उक्त फौजी नें देश हित में कयी महत्वपूर्ण लड़ाईयां लड़ी। अपने सेवाकाल के बारे बताते हुए उक्त सैनिक नें बताया कि वर्ष 1999 के कारगिल युद्ध, 2019 के पुलवामा अटैक में बाल-बाल बचे, इसके साथ 2020 भारत चीन के बीच तनाव का भी बखूबी सामना किया। 31 मार्च 2021 को अमृतसर से हवलदार पद से रिटायर होने के बाद शनिवार को बछवाड़ा जंक्शन पहुंचे। बछवाड़ा जंक्शन पर स्वागत में खड़े सैकड़ों लोगों को देख उक्त फोजी हतप्रभ रह गए। स्वागत के बाद खुली जीप पर रोड शो निकाला गया। इस क्रम में सैकड़ों लोगों का काफिला स्टेशन से बछवाड़ा प्रखंड मुख्यालय होते हुए आपका आंचल संस्था कार्यालय नारेपुर, श्रवण टोल, सहित कई गांवों का भ्रमण करते हुए सैनिक अपने पैतृक निवास स्थान पहुंचा। इस क्रम में देशभक्ति गीतों से समुचा माहौल गुंजायमान रहा। आपका आंचल संस्था के सचिव कामिनी कुमारी नें बताया कि रिटायर के बाद सैनिक को इतने वृहत पैमाने पर स्वागत कार्यक्रम का मूल उद्देश्य फौज भर्ती होने के प्रति जिज्ञासा पैदा करना है। साथ हीं देशभक्ति एवं सैनिकों के सम्मान का भाव पैदा करना है। मौके पर अवधेश चौधरी, अवकाश प्राप्त शिक्षक देवनीति राय, कृष्ण चंद्र चौधरी, अमित कुमार, मोबिना खारुन, रिंकु ठाकुर, विभा पासवान, प्रियेश कुमार आदि लोग मौजूद थे।