प्रतिशोध में की गई विश्वजीत उर्फ रंटू की हत्या-एसपी डॉक्टर श्रीपति मिश्र
कमलाकर मिश्न कि रिपोर्ट
बरहज के करजहां निवासी विश्वजीत उर्फ रंटू हत्याकांड का सोमवार को पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया। घटना को अंजाम कोई और नहीं, बल्कि रंटू की प्रेमिका के चचेरे भाई ने दिया था। मुख्य आरोपित समेत दो को पुलिस ने घटना में प्रयुक्त असलहा के साथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद दोनों को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से जेल भेज दिया गया।गांव के विश्वजीत की शुक्रवार की शाम उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जब वह गांव के बाहर एक दुकान पर खड़ा था। सोमवार को प्रभारी निरीक्षक जयंत सिंह ने बरहज बाइपास के समीप से बाइक सवार सुनील यादव पुत्र स्व.रामअवध यादव व अंशू यादव पुत्र जगदीश यादव निवासीगण करजहां को गिरफ्तार कर लिया। तलाशी के दौरान सुनील के पास से कट्टा व कारतूस भी बरामद किया गया। सुनील ने बताया कि रंटू उसकी चचेरी बहन से प्रेम करता था। बहन की जिदगी बर्बाद करने के बाद वह दूसरी शादी कर रहा था, इसलिए उसकी हमने गोली मारकर हत्या कर दी। मुझे जेल जाने का कोई अफसोस नहीं है। उसने बताया कि कट्टा पड़ोसी प्रांत बिहार से खरीद कर लाया था। शादी तय होने के बाद से ही उसने रंटू की हत्या करने की योजना बना ली थी।पुलिस अधीक्षक डा.श्रीपति मिश्र ने कहा कि प्रतिशोध में हत्या की गई है। मुख्य आरोपित समेत दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। विवेचना चल रही है, फरार आरोपितों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। आरोपितों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई की जाएगी। ------ दो बार लेकर फरार हुआ था रंटू रंटू 2017 में पहली बार अपनी प्रेमिका को लेकर गांव से फरार हुआ। इस मामले में बरहज थाने में मुकदमा दर्ज हुआ और रंटू जेल गया और प्रेमिका अपने घर चली गई। इसके बाद वह मऊ में जाकर पिता के पास रहने लगी। जेल से छूटने के बाद भी प्रेमिका को लेकर रंटू फरार हो गया। इन दिनों वह अपने पिता के पास ही रह रही है।