दो मासूम चचेरे भाइयों का अंतिम संस्कार किया गया
कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट। गाजीपुर
कासिमाबाद/सिधागरघाट। कोतवाली क्षेत्र के साधापुर गांव में रविवार की देर शाम तालाब में डूबे दो मासूम चचेरे भाइयों की मौत के बाद सोमवार को उनका गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार कर दिया गया। परिजन उनकी याद में बेसुध हो गए हैं। जबकि पूरा गांव शोक में डूबा है। गांव में चूल्हे तक नहीं जले। गांव निवासी अवनीश प्रताप सिंह अपने पिता श्यामनारायण सिंह एवं पत्नी श्वेता सिंह का ग्राम प्रधान पद के लिए नामांकन करने कासिमाबाद विकासखंड मुख्यालय आए थे। देर शाम घर पहुंचकर आराम करने लगे। शाम को अवनीश का पुत्र आशार्य (3) उन्हें जगाने लगा। पिता की नींद नहीं टूटने पर वह अपने चचरे भाई आर्यांत (3) के साथ घर के पीछे खेलने चला गया।खेलते-खेलते दोनों मासूम तालाब में डूब गए। करीब दो घंटे बाद घर की महिलाएं उन्हें तलाश करने लगीं। अन्स लोग भी तलाश करते हुए घर के पीछे तालाब के पास पहुंचे तो दोनों के शव उतराए मिले। चीखपुकार पर ग्रामीण जुट गए और दोनों को पानी से निकाल कर मऊ स्थित एक निजी अस्पताल ले गए। जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। दोनों मासूमों का शव घर पहुंचा तो चीख पुकार मच गई। सोमवार को बिना पुलिस को सूचना दिए परिवार के लोगों ने ग्रामीणों की मदद से शवों का अंतिम संस्कार कर दिया।