रिहायशी झोपड़ी सहित भैंस, गाय, बकरी सहित कई पशु जलकर मरे*
कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट। गाजीपुर
नंदगंज थाना क्षेत्र के आलमपुर डुमनी गांव में रविवार को दोपहर में अज्ञात कारणों से लगी आग में चार लोगों की रिहायशी झोपड़ी जलकर खाक हो गई। जब तक लोग आग पर काबू पाते उसमें बधी समेत गाय, भैंस, बछड़ा तथा तीन बकरियां जिंदा जल गए और हजारों का व्यक्ति का सामान जलकर राख हो गया। आग लगी के पीड़ितों को विधायक सुभाष पासी ने आर्थिक मदद करने के साथ ही सरकारी मदद दिलाने का भरोसा दिया। आलमपुर ध्वनि गांव में रविवार की दोपहर एक रिहायशी मडई में अचानक आग लग गई जिसमें कपिल देव बिंदकी झोपड़ी में बंधे एक बकरी व बकरा,, लक्ष्मण बिंद के बारे में बाद एक भैंस एक गाय और बछड़ा, संतोष बिंदकी मडई में बंधी एक बकरी और बकरा जलकर मर गए।इसके अलावा चारों झोपड़ी में रखे हजारों के गृहस्ती का सामान भी राख हो गया।वही इस आग लगी के बगल में स्थित संतोष बिंदकी जर्सी गाय व चंद्रमा बिंदकी मडई में रखा गृहस्ती का सामान भी जलकर राख हो गया। मडई में आग कैसे लगी या किसी को पता नहीं चला। ग्रामीणों ने जब झोपड़ी को जलता देखा था फायर ब्रिगेड और स्थानीय पुलिस को सूचना दी। फायर ब्रिगेड और ग्रामीणों की मदद से किसी प्रकार आग पर काबू पाया गया नहीं तो आसपास के लोगों की भी झोपड़ी आग की चपेट में आ सकती थी। घटना के बाद पहुंचे विधायक सुभाष पासी ने पीड़ित परिवारों को तत्कालीन सहायता के रूप में पांच,पांच हजार के आर्थिक सहायता किया तथा पीड़ितों को आवास दिलाने का आश्वासन भी दिया। इस अगलगी की घटना के पीड़ित निहायत ही गरीब परिवार के हैं। अग्नि कांड के समय ग्रामीण फसलों की कटाई और मडई में व्यस्त होने के कारण अपने-अपने रियासी जो परियों से दूर खेत खलियान में व्यस्त थे।