कोचिंग सेंटरों पर जिला विद्यालय निरीक्षक की नजर टेढ़ी
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
एक नजर-विभागीय कर्मचारियों के द्वारा धन उगाही की बात भी सामने आई। देवरिया- जिले में चल रहे कोचिंग सेंटरों पर जिला विद्यालय निरीक्षक की नजर टेढ़ी ।मिली जानकारी के अनुसार बृहस्पतिवार को राधवनगर, सीसी रोड स्थित कोचिंग सेंटरों पर जिला विद्यालय निरीक्षक के निर्देश पर विभाग द्वारा चेकिंग अभियान चला गया जिसमें अधिकांश कोचिंग सेंटर बिना रजिस्ट्रेशन के चलते हुए मिले। इसको लेकर विभाग द्वारा सभी कोचिंग सेंटरों को कारण बताओ नोटिस भेजने की तैयारी चल रही है। परन्तु चेकिंग के दौरान एक चौंका देने वाली बात सामने आई जिसमें में एक कोचिंग सेंटर के शिक्षक ने नाम न बताने की बात पर अपनी आपबीती सुनाई उन्होंने ने बताया कि पहले तो डीआईओएस कार्यालय के कर्मचारियों द्वारा चेकिंग अभियान चलाया जाता है। फिर पैसा लेकर मामले को ख़त्म कर दिया जाता है। उसने बताया कि इसके पहले भी कई बार शहर स्थित कोचिंग सेंटरों पर डीआईओएस के निर्देश पर छापा मारा जा चुका है, और पैसा लेकर मामले को ख़त्म कर दिया जाता है। कोचिंग सेंटर के शिक्षक ने यह भी कहां कि हम लोग कोचिंग सेंटर का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए तैयार परन्तु विभागीय कर्मचारियों द्वारा हम लोगों को परेशान किया जाता है। विभाग के अधिकारियों को चाहिए की कोचिंग सेंटरों के शिक्षकों के साथ एक मिटिंगि कर ले और कोचिंग सेंटर पढ़ाने वाले शिक्षकों की समस्या सुनकर उनका त्वरित समाधान करें परन्तु बार -बार विभाग के कर्मचारियों के द्वारा बार धनउगाही की बात सामने आती है। फिर मामला शांत हो जाता है। एक नजर- कोचिंग सेंटरों पर नहीं हो रहा है कोविड-19का पालन विशेष-सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुछ संगठन के लोग जो एक गिरोह बनाकर समय-समय पर डीआईओएस कार्यालय में जाकर कोचिंग सेंटरों के खिलाफ कंप्लेंट करते हैं इसके पीछे उनका केवल एक ही मकसद होता है कोचिंग सेंटरों के शिक्षकों से पैसा लेना यह कार्य विगत कई सालों से चल रहा है जो विभाग के अधिकारी भी जानते हैं।इस संबंध में डीआईओएस देवरिया से दूरभाष के माध्यम से बात करने का प्रयास किया गया तो उनसे बात नहीं हो पाई।