खाओ पियो सटके वोट मारो हटके फार्मूले पर मतदाता प्रत्याशियों की हां में हां मिलाकर उठा रहे लुत्फ
कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट।
कासिमाबाद ( गाजीपुर)। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में प्रत्याशियों द्वारा प्रचार कार्य तेज कर दिया गया हैं।प्रत्याशी और उनके समर्थकों में कोरोनावायरस का तनिक भी भय नहीं दिख रहा है।बिना मास्क के सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किए बिना ही चुनाव प्रचार किया जा रहा है। प्रचार का कार्य सुबह से शुरू होकर देर रात तक चल रहा है । अपने को कर्मठ, इमानदार ,गरीबों का मसीहा बताकर विकास करने के लिए वोट मांगा जा रहा है ।जबकि आम जनता पूरी तरह से खामोश है। वह अपना पत्ता नहीं खोल रही है, जो भी प्रत्याशी उससे वोट मांगने जा रहा है, वह उसी को मतदान करने पर हामी भर रहा है। इसलिए प्रत्याशी मतदाताओं को पूरी तरह से समझ नहीं पा रहे हैं । मतदाता किसी को भी ना नहीं कह रहे हैं। अब तो घर ही नहीं खेत और खलिहान में वोट मांगे जा रहे हैं। मत के लिए दावते भी दी जा रही हैं। दावत लेने से कोई परहेज भी नहीं कर रहा है। दावतो के दबाव के चलते चिकन मटन के इस नवरात्र में भी भाव लगातार बढ़ रहे हैं। प्रशासन की नजरों में धूल झोंक कर दावत दी जा रही है ।खाऊ मतदाता प्रत्याशी का जय हो का नारा लगाते नहीं थक रहे हैं ।खाऊं मतदाताओं का नारा एक प्रचलित हो गया है कि " खाओ पियो सटके वोट मारो हटके "। आजकल चट्टी चौराहे भी काफी गुलजार है। जिससे खान पान वाले दुकानदारों की चांदी कट रही है। दुकान पर पहुंचे प्रत्याशी बिना भेदभाव किए जमकर सभी की सेवा में लग जा रहे हैं। लोग अपने प्रत्याशी को स्वच्छ छवि ईमानदार व विकास करने वाला बताकर उसका जमकर गुड़गान बखान कर रहा है, और विरोधी प्रत्याशी की तरह तरह से आलोचना करते हैं। चिलचिलाती धूप की परवाह न करते हुए प्रत्याशियों ने इस भीषण गर्मी में वोट मांगने के लिए गांव के गली -गली, घर-घर दौड़ लगा रहे हैं ।वहीं खुद गांव का बेटा तो कोई विकास पुरुष बताकर वोट मांग रहा है ।