1000 वट वृक्ष लगाएगा सेवार्थ फाउंडेशन:जंग हिन्दुस्तानी
बिछिया बहराइच से अभयजीत प्रजापति की रिपोर्ट
आज के दौर में कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते ऑक्सीजन की मांग तरफ की जा रही है। लोग वातावरण में ऑक्सीजन की कमी महसूस कर रहे हैं। आक्सीजन के लिए हर तरफ आपाधापी और भगदड़ मची हुई है। सरकार को दोषी ठहराया जा रहा है । इसके साथ-साथ कुछ लोग अपने निजी बजट से भी ऑक्सीजन के प्लांट लगवा रहे हैं। हजारों वर्षों से हमारे वैदिक ज्ञान में पीपल के वृक्ष को सर्वाधिक पूजनीय माना गया है गीता में स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने कहा है कि "मैं वृक्षों में पीपल हूं"। वैज्ञानिक भी इस बात को स्वीकार करते हैं कि पीपल के पेड़ से 24 घंटे ऑक्सीजन प्रवाहित होता रहता है। इन्हीं बातों को देखते हुए सामाजिक संगठन सेवार्थ फाउंडेशन, गिरजा पुरी ने वनक्षेत्र की 15 ग्राम पंचायतों में सड़कों के किनारे, खाली पड़ी जमीन में तथा लोगों की मांग की अनुसार उनके घरों से सामने पीपल,पकडि़या और बरगद के 1000 वृक्ष 1 जून से 30 सितंबर 2021 के मध्य लगाए जाने की योजना बनाई है। सेवार्थ फाउंडेशन के मुख्य कार्यकारी सामाजिक कार्यकर्ता जंग हिंदुस्तानी ने बताया कि बिना किसी सरकारी सहयोग के जनता के साथ मिलकर गांव में एक हजार वट वृक्षों को लगाने वृहद लक्ष्य पूरा किया जाएगा। यह वट वृक्ष कोरोना काल में अपनी जान गवा चुके लोगों की याद में समर्पित किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि सेवार्थ फाउंडेशन के कार्यकर्ताओं को वृक्षारोपण के लिए जमीन चिन्हित करने के निर्देश दिए गए हैं। 30 सितंबर 2021 के पहले इस लक्ष्य को पूरा कर लिया जाएगा और आगामी 5 साल तक इन पेड़ों की सुरक्षा के लिए आवश्यक कार्य किए जाएंगे।