लाकडाऊन में भी खुली रही मिठाई और गाजा की दुकान
जिला प्रभारी राजीव कुमार पांडेय की रिपोर्ट
भांवरकोल विकास खंड क्षेत्र में कोरोना को मत/कमी लाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा लाकडाउन की समय सीमा आगामी बीस मई तक बढ़ा दिया गया है ।यह लाकडाऊन सरकार द्वारा लोगों की बचाव के लिए शौकन नही बल्कि विशेषज्ञ डाक्टरों की सलाह पर मज़बूरी में जनता जनार्दन के हित में लिया गया कठोर कदम है। निश्चय ही इसमें मध्यम वर्ग के लोगों को काफी कठिनाइयों का आर्थिक सामना करना पड़ रहा है।कहने को तो लाकडाऊन लगा हुआ है।लाकडाऊन का अनुपालन कहां तक हो रहा है,यह जानने के लिए जब स्थानीय प्रतिनिधि भांवरकोल चट्टी गया तो वहां का माजरा देखकर दंग हो गया। भांवरकोल ब्लाक मुख्यालय के अहाते के दीवार से सटे बाहर की ओर गाजीपुर -भरौली राजमार्ग के ठीक सामने जर्जर गुमठी में सरकारी गांजा की दुकान आज ११.४६ बजे खुली हुई थी जहां से ग्राहक गांजा खरीद फरोख्त करने में लगे हुए थे तो कुछेक गजेरी दुकान के बगल में गांजा बना रहे थे।जब प्रतिनिधि को फोटो लेते हुए देखे थोड़ा सहम गये।इसी तरह भांवरकोल चट्टी से सुखडेहरा गांव को जानें वाले संपर्क मार्ग पर एक मिठाई की दुकान खुली दिखाई दी। राजमार्ग के किनारे भी एक मिठाई की दुकान आधे तौर पर खुली मिली जिसके अन्दर लोगा झुक कर अंदर से मिठाई ले रहे थे।इन सबके संबंध में जब भांवरकोल थाना प्रभारी शैलेश कुमार से बात फोन से किया गया तो उन्होंने बेबाक रूप से कहा कि इसकी मुझे नही और मै अभी अपने जवानों से इसकी जांच करवाता हूं और सही पाये जाने पर दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई तेज किया जायेगा। ऐसे तो आटो वाले लोगों को ठूंस ठंस कर भरौली से मुहम्मदाबाद ले और आ रहे है जिसमें लोग मास्क कुछ ही पहने दिखाई थे््। एक दो निजी बस भी सडक पर चलते दिखाई दे रहे थे जो बिना मास्क ही सफर कर रहे थे और मोटरसाइकिलों का तो कहना ही ‌क्या उनके लिए लाकडाऊन को मतलब ही नही था मगर वे मास्क जरूर लगाएं थे ।