बेहद रोमांचक होगा नवगठित नगर पंचायत निघासन का पहला चुनाव *चेयरमैन पद के दावेदारों ने बढ़ाई अपनी सक्रियता
लखीमपुर खीरी से ब्यूरो चीफ विमल मिश्रा की रिपोर्ट
लखीमपुर खीरी।निघासन तहसील मुख्यालय को नगर पंचायत का दर्जा मिलने के बाद नगर पंचायत सम्बन्धी काफी प्रशासनिक व्यवस्थाएं यहां अस्तित्व में आनी शुरू हो चुकी हैं।अब बस इंतजार है तो सिर्फ यहां की जनता को अपने पहले चेयरमैन का।इसी के साथ यहां चेयरमैन पद के दावेदारों ने भी अपनी सक्रियता बढ़ानी शुरू कर दी है।सभी दावेदार लोगों से बेहद आत्मीयता से मिल रहे हैं और लोगों का हाल चाल भी पूछ रहे हैं।ज्यादातर दावेदारों ने सत्ता पक्ष के हर छोटे बड़े कार्यक्रमों में भी अपनी सक्रियता अचानक बढ़ा दी है। ग्राम सभा के रूप में सिमटे निघासन तहसील मुख्यालय को एक लंबे अरसे से नगर पंचायत का दर्जा देने की मांग की जा रही थी।आखिरकार भाजपा सरकार ने उनकी यह बहुप्रतीक्षित मांग पूरी कर दी। रकेहटी(आंशिक) और निघासन ग्राम पंचायत को मिलाकर निघासन के नाम से नई नगर पंचायत की घोषणा शासन स्तर से हो चुकी है।इसके बाद से ही निघासन नगर पंचायत का पहला अध्यक्ष बनने की हसरत भी कई लोगों में लगातार जागती जा रही है।कई लोगों ने समाजसेवा के जरिए लोगों के बीच अपनी सक्रियता बढ़ा दी है तो कई लोग सत्ता पक्ष के नेताओं का आशीर्वाद पाने की जुगत में लग गए हैं।ज्यादातर दावेदार इस प्रयास में हैं कि किसी तरह से भाजपा का समर्थन उन्हें मिल जाए।और यह तभी संभव होगा जब क्षेत्रीय सांसद और विधायक का आशीर्वाद उन्हें मिलेगा।अब इसी आशीर्वाद को पाने की चाहत में सत्ता पक्ष के हर छोटे बड़े कार्यक्रमों में उनकी सक्रियता अचानक बढ़ गई है।अभी तक करीब दर्जन भर नाम चर्चा में हैं जिनके दिल में निघासन का पहला चेयरमैन बनने की हसरत हिलोरें मार रही है। निघासन के मौजूदा ग्राम प्रधान पति रामकुमार मौर्य चुनाव लड़ेंगे,इसमें शायद ही किसी को संदेह हो।प्रधानपति के रूप में इधर दो तीन सालों से वह भाजपा के लगभग हर कार्यक्रम में मौजूद रहते हैं।सत्ता पक्ष की तरफ से एक बड़ा नाम विनोद लोधी का चर्चाओं में है।भाजयुमो जिलाध्यक्ष के रूप में काम कर चुके श्री लोधी इस समय भाजपा के जिला महामंत्री हैं।संगठन में उनकी अच्छी पकड़ है।टिकट दिलाने में यह बात उन्हें और दावेदारों से काफी आगे कर देती है।उधर रकेहटी निवासी सामाजिक कार्यकर्ता और भाजपा में कई पदों पर रहे देवेंद्र चतुर्वेदी का नाम भी काफी चर्चा में है।वह भी भाजपा से ही टिकट चाहते हैं।भाजपा संगठन में भी उनकी अच्छी पकड़ है और भाजपा के संगठन महासचिव सुनील बंसल के भी वह काफी विश्वस्त बताए जाते हैं।उधर निघासन के युवा व्यवसाई प्रदीप गुप्ता भी भाजपा के समर्थन से चुनाव लड़ने के इच्छुक बताए जाते हैं।इधर वह काफी सक्रिय भी दिख रहे हैं।लॉक डाउन के दौरान पहले भी उन्होंने लोगों की काफी मदद की थी और इस बार भी कर रहे हैं।इसके अलावा कस्बे के ही युवा व्यवसाई और समाजसेवी मोनू दीक्षित भी भाजपा के टिकट के दावेदारों में बताए जा रहे हैं।दो बार निघासन के प्रधान रहे बद्री प्रसाद मौर्य भी चेयरमैन पद के प्रमुख दावेदारों में गिने जा रहे हैं।प्रधान रहते हुए वह अपनी सर्वसुलभता के लिए काफी मशहूर थे।यह तो हुई सत्ता पक्ष के दावेदारों की बात।जहां तक सपा के समर्थन से चुनाव लडने वाले दावेदारों की बात है तो उसमें अभी तक युवा व्यवसाई मनोज वर्मा का नाम काफी आगे चल रहा है।वह सामाजिक,सांस्कृतिक और राजनीतिक गतिविधियों में बराबर सक्रिय रहते हैं।इसके अलावा आफताब साहिल और गोपाल पांडेय आदि के नाम भी प्रमुख रूप से चर्चा में हैं।