घर से किशोरियों को उठाने के मामले एसपी ने दरोगा व हेड कांस्टेबल को किया निलंबित
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया-बिना किसी अधिकारिक सूचना के कुशीनगर के खड्डा में पहुंचकर दो किशोरियों को पूछताछ के लिए उठाने के मामले में देवरिया के रामपुर कारखाना में तैनात एक दरोगा व हेडकांस्टेबल को निलंबित कर दिया गया है। एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने रविवार को यह कार्रवाई की। इस मामले की शिकायत कुशीनगर के रहने वाले सामाजिक कार्यकर्ता राजेश मणि ने राज्य बाल आयोग में भी की है।रामपुर कारखाना थाने में तैनात दरोगा अखिलेश कुमार और हेड कांस्टेबल संपत वर्मा एक मामले में मोबाइल नम्बर के आधार पर दो किशोरियों को हिरासत में लेने के लिए 27 मई को कुशीनगर जिले के खड्डा पहुंच गए। इसकी जानकारी उन्होंने न तो जिले अधिकारियों को दी और न ही कुशीनगर पुलिस को ही नियम संगत तरीके से जानकारी दी गई। वहां से दोनों पुलिसकर्मियों ने दो किशोरियों को पूछताछ करने का हवाला देते हुए अपनी गाड़ी में बैठा लिया। यह देख मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। लोगों के विरोध के बावजूद दोनों पुलिसकर्मी किशोरियों को लेकर वहां से चल दिए। इसकी जानकारी होने पर खड्डा पुलिस ने आला-अफसरों को बताया। मामला तूल पकड़ता देख करीब डेढ़ घंटे बाद दोनों पुलिसकर्मी किशोरियों को उनके घर छोड़ आए। किशोरियों के परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस अधिकारियों के साथ ही महिला आयोग से कर दी। यही नहीं, सामाजिक कार्यकर्ता राजेश मणि ने इसकी शिकायत राज्य बाल आयोग में की। पूरे प्रकरण की जानकारी होने के बाद एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने इसे गंभीरता से लेते हुए दरोगा अखिलेश कुमार और हेड कांस्टेबल संपत वर्मा को निलंबित कर दिया।