विकास खण्ड कैसरगंज ग्राम पंचायत नकौड़ा के कोटेदार कार्ड धारक को वितरण कर रहें कम खाद्दान्न
आलोक सिंह ब्यूरो बहराइच
*कोटेदार खाद्दान्न दे रहे है कम और पैसा ले रहे पूरा*
*कैसरगंज बहराइच* *एक तरफ जहां कोरोना महामारी की वजह से सरकार इस आपदा को रोकने के लिए लॉकडाउन जैसा अहम फैसला लिया है इससे मजदूरों का काम ठप हो गया है आय का स्रोत दूर-दूर तक नजर नहीं आ रहा वहीं दूसरी तरफ सरकार से मिलने वाली प्रति माह अंत्योदय व पात्र गृहस्थी खाद्यान्न लाभ में भी कोटेदार अपना जेब भरने में लगे हैं* जनपद बहराइच के विकासखंड कैसरगंज के ग्राम पंचायत नकौड़ा की कोटेदार मीना सिंह पत्नी वीरेंद्र सिंह जो ग्राम नकौडा के कार्ड धारकों को उचित दर के अनुसार सम्पूर्ण रुपया लेकर और मानक से कम खाद्दान्न दे रही हैं कार्डधारक रामकंस पुत्र बालक राम जिनका कार्ड पात्र गृहस्थी हैं उन्होंने कोटेदार पर आरोप लगाते हुए बताया कि जब हम लोग खाद्यान्न लेने जाते हैं तो कोटेदार मानक के हिसाब से खाद्यान्न न देकर और मानक के अनुरूप संपूर्ण धनराशि लेकर के खाद्यान्न वितरित करते हैं और इसका विरोध करने पर उन्होंने हमसे कहा कि तुम चाहे जिस अधिकारी के पास चले जाओ हमारा कुछ नहीं कर पाओगे हम लोग जो खाद्यान्न कम देते हैं उस खाद्यान्न में से ऊपर के अधिकारियों को भी देना पड़ता है इस लिए हम खाद्यान्न इसी प्रकार से वितरित करेंगे और हमारा कोई कुछ नहीं कर पाएगा तथा ऐसी स्थिति में गांव के लगभग सैकड़ों कार्डधारक खाद्यान्न से वंचित हैं और उनको खाद्यान्न अभी तक नहीं प्राप्त हुआ है जिसके कारण से कोराना जैसी महामारी में गांव पंचायत नकौड़ा के सैकड़ों ग्रामीण भूखों मरने पर मजबूर हैं और इसी प्रकार कार्डधारक गुड्डू पाठक पुत्र देवकीनंदन पाठक व संजय पुत्र जीवनलाल व जमालु पुत्र भगोले ने भी कोटेदार पर आरोप लगाते हुए बताया कि उचित मूल्य दर के अनुसार पूरा पैसा लेकर मानक के अनुसार खाद्यान्न न देकर तथा तौल में भी कम करके खाद्यान्न वितरित करते हैं ग्राम पंचायत नकौड़ा के सैकड़ों कार्ड धारकों ने हाथ उठाकर इसका विरोध जताया है मौके पर कोटेदार के पुत्र शिवा सिंह व कोटेदार के परिवार के जगदीश सिंह से जब कार्ड धारकों ने पूछा कि ऐसा आप क्यों कर रहे हो तो उन्होंने कार्ड धारकों से अभद्रता करते हुए कहा की हम कितना खाद्यान्न देंगे और कितना आता है इसकी संपूर्ण जानकारी तुम लोगों को देना उचित नहीं समझते हैं यहां जिस प्रकार से खाद्यान्न आता है उसी प्रकार से वितरित किया जाएगा ऐसे कोटेदार व उनके परिवारी जनों से गांव पंचायत के ग्रामीण खाद्यान्न न मिलने के कारण परेशान है और कोराना जैसी महामारी में अपनी जिंदगी को काटना उनके लिए बहुत मुश्किल पड़ रहा है अब देखना यह है कि ऐसे कोटेदार व उनके परिवारी जनों के खिलाफ योगी सरकार व संबंधित विभाग क्या कार्यवाही करता है