तेरा तुझको अर्पण , मेरा क्या लागे ! यह जीत लुधौरी की जनता को समर्पित : मनोज *रिकार्ड मतों से ग्राम प्रधान बनने वाले मनोज जायसवाल की चर्चा पूरे जनपद में
लखीमपुर खीरी से विमल मिश्रा की रिपोर्ट लखीमपुर खीरी।कहते हैं कि लोकतंत्र में जनता ही जनार्दन होती है।झूठे सपने दिखाकर विश्वासघात करने वालों को जहाँ वह एकजुट होकर सबक सिखा देती है वहीं दिल जीतने वाले उम्मीदवारों को इतनी बड़ी जीत का तोहफा दे देती है कि लोग दांतों तले अंगुली दबा लेते हैं।ऐसा ही कुछ ग्राम लुधौरी निवासी मनोज जायसवाल के साथ भी हुआ।पंचायत चुनाव में यहां की जनता ने मनोज जायसवाल की पत्नी रंजना जायसवाल को जिस तरह से रिकार्ड मतों के अंतर से प्रधान बनाया है,उसकी गूंज पूरे जिले में सुनाई दे रही है।यह गूँज आखिर सुनाई दे भी क्यों न ! लुधौरी की जनता ने इस बार काम ही कुछ ऐसा किया है।लुधौरी की जनता ने प्रधानी के चुनाव में बम्पर जीत का ऐसा रिकार्ड बना दिया है जिसे भविष्य में शायद ही कोई दूसरा उम्मीदवार तोड़ सके।आज समूची लुधौरी अपने इस रिकॉर्ड पर इतरा रही है।गांव का हर एक बच्चा,युवा,बूढा और माताएं-बहनें प्रफुल्लित हैं।3527 वोटों के भारी भरकम अंतर से जिले की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत की जनता ने सबसे बड़ी जीत दिलाकर इस बार अपना ग्राम प्रधान चुना है।इतनी बड़ी जीत किसी को भी गदगद कर सकती है।जनता जब असमंजस की स्थिति में होती है,तब मुकाबला कांटे का होता है।लेकिन इस बार यहां कोई असमंजस नहीं था।सभी की एक राय थी।इसका नतीजा आज सामने है।सारे विपक्षी उम्मीदवार मिलाकर भी उतने वोट नहीं पा सके,जितने अकेले मनोज के खाते में आये।कुल पड़े वोटों में से 57 प्रतिशत से भी ज्यादा वोट अकेले मनोज को मिले।इस चुनाव परिणाम ने कइयों की तो राजनीति ही पूरी तरह से समाप्त कर दी है।कई दिग्गज उम्मीदवार तो सौ का आंकड़ा भी पार नहीं कर सके।मनोज को भी अपनी इस बड़ी जीत की अहमियत मालूम है।इसलिए उन्होंने चुनाव परिणाम आने के बाद बिना एक पल की देरी किये हुए तेरा तुझको अर्पण,मेरा क्या लागे कहते हुए यह जीत जनता को समर्पित कर दी।साथ ही लोगों को यह भी भरोसा दिलाया कि वह बिना किसी भेदभाव के काम करेंगे।जनता ने अपना काम कर दिया है अब काम करने की बारी मनोज और उनकी प्रधान पत्नी रंजना जायसवाल की है।जितनी बड़ी जीत है,उतनी ही बड़ी जिम्मेदारी भी है।उम्मीद है कि यह जोड़ी इस जिम्मेदारी पर पूरी तरह से खरी उतरेगी।