बिहार बारात गए एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगने से मौत*
कृपाशंकर यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर। भांवरकोल थाना क्षेत्र के गांव मनिया निवासी संतोष मौर्य ३२साल पुत्र रामबचन मौर्या बड़े खुश मिजाज से कल शाम बाराती बनकर अपने घर से निकला था लेकिन उसे क्या पता था कि वह पुनः घर जिंदा नही लौट पायेगा। बताया जाता है कि मनियां गांव निवासी उसके पट्टीदार सुनील मौर्य पुत्र रामाश्रय मौर्य की बारात कल सायं घर से विहार के बक्सर जिले के सांगरांव गांव में गयी थी। बड़े खुशगवार माहौल ‌मे जयमाल का कार्यक्रम चल रहा था ।दूल्हा-दूल्हन को शुभचिंतक एवं बाराती आशीर्वाद दे रहे थे इसी बीच किसी ने भीड़ से मंच की ओर फायरिंग कर दी। जिससे संतोष मौर्य के बायें पैर के निचले हिस्से में लगी जिससे वह वही गिर पड़ा। जिससे खुशियों की हवा गम में तब्दील हो गई।आनन फानन में उसे बक्सर किसी निजी डाक्टर के पास ले जाया गया। ईलाज के दौरान ही रक्त अधिक रक्तस्राव होने की वजह से और तत्काल रक्त की व्यवस्था नहीं होने से उसकी मौत हो गयी। उसका शव आज दिन के दस बजे गांव मनिया लाया गया। गोली लगने की सूचना मिलते ही उसके घर पर करूण क्रदन होने लगा था।दोपहर साढ़े तीन बजे के करीब उसके परिजन शव को नेशनल हाईवे के मनियां गांव के सामने गाजीपुर-भरौली मार्ग पर रखकर चक्का जामका प़याश करने लगे। जिसकी तुरंत सूचना पाकर तत्काल पुलिस मौके पहुंचीं थाना प्रभारी शैलेश कुमार मिश्र ने उत्तेजित लोगों को समझा बुझाकर कर जाम कर रहे लोगों को वहां से हटवा दिया और उसके शव को सांगरांव गांव के थाना कमरपुर ले जाने की सलाह दिया क्योंकि घटना कमरपुर थाना क्षेत्र का है। पुलिस की सलाह पर उसके परिजन उसके शव को कमरपुर बक्सर विहार ले गये। मृतक अपने तीन भाईयों में सबसे छोटा था। उसकी पत्नी तथा तीन छोटे-छोटे बच्चों का रो- रोकर बुरा हाल था।