सीएम के दूत बन श्मशान घाट पहुंचे ,सचिव समीर वर्मा
कृपाशंकर यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर । में गंगा के घाटों पर लगातार शवो के उतराने से महामारी फैलने के अंदेशा से हड़कम्प मचा हुआ है। शवो के गंगा में उतराने को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वतः संज्ञान लेते हुए श्मशान घाटों पर अंतिम संस्कार कराने और गंगा में शव का जल प्रवाह रोकने के लिए जिला प्रशासान को निर्देश दिया था। साथ ही गंगा में शवों का जल प्रवाह रोकने के लिए गंगा में पेट्रोलिंग के साथ मुनादी कर लोगों को जागरूक करने का निर्देश दिया था। आज गाजीपुर के श्मशान घाट पर सीएम के दूत बनकर आये सचिव व नोडल अधिकारी उत्तर प्रदेश शासन समीर वर्मा ने निरीक्षण किया। नोडल अधिकारी समीर वर्मा बोट में सवार होकर गंगा के घाटों का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के बाबत समीर वर्मा ने बताया कि कुछ कमियां है। जिसे दुरूस्त करने के लिए जिला प्रशासन की लगी हुई है। समीर वर्मा ने माना कि कोरोना टेस्टिंग में थोड़ी कमी है जिसे और अधिक कोरोना जांच कराने की जरूरत है। बता दें कि जिला प्रशासान और समाजसेवियों के सहयोग से श्मशान घाट पर लकड़ी बैंक बनाया गया है। जहां से गरीब, असहाय लोगों को शव दाह के लिए निःशुल्क लकड़ियों उपलब्ध कराई जा रही है। साथ ही श्मशान घाट पर शवदाह के लिए लकड़ियों के दाम को भी 650 रूप प्रति कुंतल फिक्स कर दिया गया है। साथ 500 रूपये डोम राजा की फीस भी फिक्स कर दी गई है। लेकिन गरीब असहाय लोगों के लिए शासन स्तर से डोम राजा की फीस भी जिला प्रशासान की ओर से दी जाने का भी निर्देश है। फिलहाल पूरे मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी काफी गंभीर है। साथ ही जिला प्रशासान कोरोना के तीसरे वैभ को लेकर भी जिला प्रशासन मुस्तैद है। गाजीपुर में कल कुल 6189 लोगों का कोरोना टेस्ट हुआ । जिसमें 35 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए। 35 कोरोना पॉजिटिव मरीजों के साथ कुल जिले में कोरोना एक्टिव केस 1590 है। जबकि 340 कोरोना मरीज ठीक हुए। वही अगर हम बात स्वास्थ्य विभाग की करें तो स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 1151 आईसोलेशन बेड बनाये गए है। जबकि 647 ऑक्सिनज बेड के साथ 34 बेड का आईसीयू भी उपलब्ध है। साथ ही ऑक्सिनज कि उपलब्धता की बात करे तो डी टाइप ऑक्सिनज सिलेंडर 222, बी टाइप सिलेंडर 94 और 187 ऑक्सिनज कन्संट्रेटर भी मौजूद है। जिला प्रशासन कोरोना के तीसरे वेब को लेकर तैयारी मुस्तैद कर ली है। इसके साथ ही जिला प्रशासन और नगरपालिका प्रशासन द्वारा लगातार सेनेटाइज करने का भी काम कर रही है। कल जिले के सभी नगरपालिका परिषद के साथ 277 ग्रामपंचायतों का सेनेटाइजेशन का कार्य कर भी किया गया।