मुख्तार अंसारी के करीबी मेराज का शव महेंद गांव पहुंचा
कृपाशंकर यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर। चित्रकूट जेल में शुक्रवार को गैंगवार में मारे गए शातिर मेराज अली का शव शनिवार सुबह अशोक विहार कालोनी स्थित उसके आवास पर पहुंचा। शव आवास पर पहुंचते ही घर की महिलाएं दहाड़े मार कर रोने लगी। एहतियात कई थानों की फ़ोर्स मौके पर तैनात थी। करीब आधा घंटा रुकने के बाद परिजन शव को लेकर गाजीपुर स्थित पैतृक गांव महेंद के लिए रवाना हो गए। परिजनों ने बताया कि मेराज को पैतृक गांव में ही दफनाया जाएगा। मुख्तार अंसारी के करीबी मेराज का शव उसके पैतृक गांव करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के महेन्द गांव पहुंच गया है। महेन्द गांव में स्थित उसके पुस्तैनी कब्रिस्तान में शाम पांच बजे की नमाज अदा करने के पश्चात शव को दफनाया जाएगा। गाजीपुर बॉर्डर से लेकर महेन्द गांव तक कड़ी सुरक्षा के इंतेजाम किए गए हैं। रास्ते में भी जगह-जगह पुलिस तैनात है। वहीं मेराज के गांव महेन्द में एएसपी ग्रामीण आरडी चौरसिया, सीओ मुहम्मदाबाद राजीव द्विवेदी सहित पांच एसओ अपने हमराहियों के साथ महेन्द गांव में तैनात हैं। एसपी डा. ओपी सिंह ने बताया कि सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। शाम पांच बजे कब्रिस्तान में शव को स्वजनों द्वारा दफनाया जाएगा।