सड़क पर खुद निकले डीएम व एसपी, दुकानों को कराया बंद
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट
कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिले में कोरोना क‌र्फ्यू लागू होने के बावजूद दुकानें खोलने से बाज नहीं आने वालों पर बुधवार को पुलिस व प्रशासन का डंडा चला। बुधवार को जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन व पुलिस अधीक्षक डा.श्रीपति मिश्र सड़क पर उतर गए और शहर के सिविल लाइन रोड व मालवीय रोड तथा परशुराम चौराहा की दुकानें बंद कराई।कुछ लोगों को पकड़ कर कोतवाली भेज दिया। डीएम व एसपी के सड़क पर निकलने के बाद शहर की दुकानें बंद हो गई। उधर नौ दुकानदारों पर पुलिस अधीक्षक ने मुकदमा दर्ज करने का भी निर्देश दिया है। हर दिन दोपहर तक शहर से लेकर ग्रामीण अंचलों की दुकानें खुल रही थी। जागरण में इस खबर के प्रकाशित होने के बाद पुलिस अधीक्षक सख्त हो गए और पूरे जनपद में सख्ती दिखाने का निर्देश दिया। उसके बाद पुलिस कर्मी सक्रिय हो गए। इस दौरान पुलिस ने 180 लोगों के वाहनों का चालान किया।शहर के सुभाष चौक, पुरवा चौराहा, मालवीय रोड, कसया रोड, पिपरपाती चौराहा, हनुमान मंदिर, रुद्रपुर तिराहा, कतरारी चौराहा, कचहरी चौराहे पर पुलिस चेकिग करने लगी। बिना काम के घरों से निकले लोगों को पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए घर भेज दिया। उधर स्टेशन रोड पर पंजाब नेशनल बैंक के सामने ग्राहकों की भीड़ लगी रही।जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस अधीक्षक, एसडीएम सौरभ सिंह व सीओ सिटी श्रीयश त्रिपाठी खुद दस बजे शहर के भ्रमण पर निकल गए और सिविल लाइन रोड पर खुली दुकानों को बंद कराने के साथ ही फटकार लगाई। इस दौरान उन्होंने मेडिकल स्टोर मालिकों से शारीरिक दूरी पालन करने के लिए दुकान के सामने गोला बनाने का भी निर्देश दिया।अधिकारियों के सड़क पर आते ही शहर की सभी दुकानें बंद हो गई और सिविल लाइन रोड, मालवीय रोड, सीसी रोड, जलकल रोड पर सन्नाटा छा गया। यही हाल सलेमपुर, बरहज, लार, भाटपाररानी, रुद्रपुर कस्बा में भी दिखा। सुबह नौ बजते-बजते पुलिस की सख्ती दिखने लगी।