ब्लैक फंगस से निबटने की तैयारी शुरू, आईसीयू में दस बेड सुरक्षित
कृपाशंकर यादव की रिपोर्ट।
गाजीपुर। ब्लैक फंगस को लेकर स्वास्थ्य महकमा अलर्ट हो चुका है। एहतियातन जिला अस्पताल में स्थापित आईसीयू के दस बेड को सुरक्षित कर लिया गया हे। साथ ही नाक, गला और कान के विशेषज्ञ डॉक्टर से टेली मेडिसिन से सहयोग लिया जाएगा। हालांकि अब तक जिले में ऐसी बीमारी का मरीज नहीं मिला है। ब्लैक फंगस (म्यूकार माइकोसिस) को लेकर स्वास्थ्य महकमे ने बेहतर चिकित्सकीय सुविधाओं के साथ लोगों को जागरूक करने की तैयारी शुरु कर दी है। एहतियात के तौर पर जिला अस्पताल में स्थापित 40 बेड के आईसीयू वार्ड में 10 बेड ऐसे मरीजों के लिए सुरक्षित कर लिया गया है, जिससे मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा प्रदान की जा सके। इसके अलावा नाक, गला और कान के विशेषज्ञ चिकित्सक की कमी को पूरा करने के लिए टेली मेडिसिन द्वारा मरीजों के उपचार में सहयोग लेने की तैयारी भी शुरु कर दी गई है, जिससे पीड़ित का तत्काल उपचार शुरु किया जा सके। साथ ही इसके लिए दवा पर्चेज करने को मेडिकल कारपोरेशन को पत्र भेज चुका है। वाराणसी के मंडलीय अस्पताल पर इलाज की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है। खासकर मधुमेह पीड़ित मरीजों को इससे बचने की सलाह दी जा रही है। डॉक्टरों के मुताबिक ऐसी अवसरवादी बीमारी से बचने के लिए मधुमेह पीड़ित मरीज को अपना शुगर लेवल नियंत्रित रखने की आवश्यकता है।