पूर्व विधान परिषद सदस्य परशुराम मणि त्रिपाठी की पुण्यतिथि मनाई गई
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
सीसी रोड स्थित परशुराम चौक पर पूर्व विधान परिषद सदस्य परशुराम मणि त्रिपाठी की पुण्यतिथिमनाई गई। भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनके प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया।समारोह में भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष,सांसद देवरिया डॉ रमापतिराम त्रिपाठी ने कहा कि परशुराम मणि त्रिपाठी लोकतंत्र के सच्चे प्रहरी थे। अपने जीवनकाल में उन्होंने सिद्धांतों के साथ कभी समझौता नहीं किया। उन्होंने निर्भीक होकर समाज सेवा का कार्य किया था। उनके अंदर किसी तरह का भेदभाव नहीं था। वह सच्चे समाजवादी और पारदर्शी व्यक्ति थे। शिक्षा और राजनीति के क्षेत्र में परशुराम मणि ने अपनी अलग पहचान बनाई थी। उनके लिए सभी लोग एक समान थे।शिक्षा ,राजनीति एवं समाज सेवा के क्षेत्र में आदर्श कीर्तिमान उन्होंने स्थापित किया सदर सांसद ने कहा कि स्व.मणि ने कभी भी असत्य, आमर्यादा, झूठ या स्वकल्याण के लिए कोई कार्य नहीं किया। जनता की सेवा ही उनका अभीष्ट रहा। जाति और धर्म से ऊपर उठकर उन्होंने जन-जन की सेवा की।एमएलसी रहते हुए उन्होंने जिस पारदर्शी जीवन को जीया, आज के राजनीतिज्ञों के लिए वह प्रेरणादाई है।राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक कार्यकर्ता के रूप में चाहे 1953 का जम्मू कश्मीर आंदोलन हो ,इमरजेंसी हो ,राम जन्म भूमि का आंदोलन हो ,सभी राष्ट्रवादी आंदोलनों में उनकी अग्रणी भूमिका रही। हम सभी जानते हैं कि राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान वह गंभीर रूप से पुलिस उत्पीड़न के शिकार भी हुए थे।जहां राजनीति के क्षेत्र में शिखर को छुएं वहीं शिक्षा के क्षेत्र में भी उन्होंने नई शिक्षा नीति 1986 में अपने सुझाव देकर राष्ट्रवादी मूल्यों की स्थापना के लिए केंद्रीय सरकार को विवश किया था। आज उनकी पुण्यतिथि पर हम सभी उन्हें नमन करते हैं और उनके दिखाए मार्ग पर चलने की शपथ लेते हैं। विधायक डॉ सत्यप्रकाश मणि त्रिपाठी ने कहा कि स्वर्गीय परशुराम मणि त्रिपाठी की यहां स्थापित आदम कद प्रतिमा हम सभी जनमानस के लिए प्रेरणा स्रोत है ।इस प्रतिमा को देखने के बाद हम सभी को लगता है कि एक ईमानदार, आदर्श शिक्षक, शिक्षाविद और एक नेक दिल इंसान किस प्रकार समाज और राष्ट्र की सेवा इमानदारी से कर सकता है। उन्होंने सदा सच का साथ दिया। सही बातो को किसी भी मंच से वह निर्भीकता से कह डालते थे।पूर्व विधायक रविन्द्र प्रताप मल्ल ने कहा कि जितना सम्मान एमएलसी के रूप में, प्रधानाचार्य या शिक्षक के रूप में, या एक समाज सेवक के रूप में स्वर्गीय मणि ने अर्जित किया, ऐसा कम ही उदाहरण समाज मे देखने को मिलते है। कार्यक्रम संयोजक स्व. मणि के पौत्र प्रभात रंजन मणि ने कहा कि बाबा की पुण्यतिथि इस बार बहुत भव्यता से मनाने की योजना थी लेकिन कोरोना वायरस के कुप्रभाव और लॉकडाउन के कारण कार्यक्रम को संक्षिप्त करना पड़ा।इस दौरान पूर्व प्रमुख शैलेश मणि त्रिपाठी,मीडिया प्रमुख भाजपा अम्बिकेश पाण्डेय,प्रधानाचार्य डा. अभय द्विवेदी,डा. प्रवीण निखर,सभासद धर्मेन्द्र सिंह,नन्दलाल यादव,रवि प्रताप सिंह,मृत्युंजय सिंह,मारकंडेय मिश्रा,वीरेन्द्र तिवारी आदि रहे।