भारत-नेपाल सीमा पर एपीएफ की फायरिंग से युवक की मौत, तनाव के बीच SSB और पुलिस अलर्ट
ब्यूरो चीफ महराजगंज
महराजगंज: भारत-नेपाल सीमा के नो-मेंस लैंड के लाइन-एक पोस्ट के समीप नेपाल की सशस्त्र पुलिस फोर्स (एपीएफ) के जवानों फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई है। नेपाली पुलिस की फायरिंग से सीमा के गावों में हड़कंप मच गया। तनाव की स्थिति को देखते हुए एसएसबी और निचलौल पुलिस अलर्ट हो गई है। बताया जा रहा है कि बुधवार की सुबह भारत के बहुआर बाजार से अपने पिता के लिए दवा लेकर जा रहे एक नेपाली युवक को नेपाल की सशस्त्र पुलिस फोर्स (एपीएफ) के जवानों ने गोली मार दी। गोली लगने से नेपाल के नवलपरासी जिले के कठहवा निवासी अविनाश राजभर गंभीर रूप से घायल हो गया। स्थानीय लोग घायल युवक को इलाज के लिए अस्पताल ले जा रहे थे कि रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। गोली चलने से सीमा पर अफरा-तफरी मच गई। सीमा पर तनाव को देखते हुए एसएसबी और निचलौल पुलिस अलर्ट हो गई है। संवाददाता के मुताबिक बुधवार की सुबह नेपाली पुलिस की फायरिंग में मृतक अविनाश राजभर अपने पिता बच्चा राजभर के लिए सीमा के पगडंडी रास्ते से होते हुए भारत के बहुआर में स्थित एक निजी चिकित्सालय पर दवा लेने आया था। दवा लेकर वह वापस घर जा रहा था कि नो-मेंसलैंड पर नेपाल एपीएफ के तीन जवानों ने उसे दूर से ही रुकने के लिए आवाज दी। जवानों ने कहा कि सीमा सील होने के चलते आवागमन प्रतिबंधित है। चेतावनी के बाद भी जवानों की बातों को अनसुना कर अविनाश नेपाल स्थित अपने घर जाने के लिए बढ़ने लगा। जिसके बाद नेपाली जवानों ने पहले तीन राउंड हवाई फायरिंग कर उसे चेतावनी दी। जब अविनाश नहीं रुका तो आक्रोशित जवानों ने उसके पैर में गोली मार दी। गोली लगते ही अविनाश भूमि पर गिरकर तड़पने लगा। गोली की आवाज सुनते ही कठहवा निवासी हदीश अली, संतोष यादव व बहादुर राय सहित बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक मौके पर पहुंच गए। घायल अविनाश को स्थानीय लोगों द्वारा तत्काल अस्पताल ले जाया गया लेकिन युवक ने दम तोड़ दिया। सीमा पर नेपाल की फायरिंग से एक नेपाली युवक की मौत से तनाव का माहौल है। एसएसबी और निचलौल पुलिस भी अलर्ट हो गई है और स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए है।