जिला अधिकारी विशाल भारद्वाज की अध्यक्षता में कलेक्टर सभागार में बुधवार को नगरीय निकायों के अध्यक्षों एवं अधिशासी अधिकारियों के साथ बैठक संपन्न हुई
रिपोर्ट पी एन वर्मा ब्यूरो चीफ सीतापुर
सीतापुर दिनांक 09 जून 2021 जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को नगरीय निकायों के अध्यक्षों एवं अधिशासी अधिकारियों के साथ बैठक सम्पन्न हुयी। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने नगरीय निकायों के कार्यों की समीक्षा करते हुये निर्देश दिये कि जर्जर भवनों को नियमों के अनुसार ध्वस्त कराते हुये मलवा हटवाया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि स्वास्थ्य केन्द्रों के परिसरों के साथ सम्पर्क मार्गों की भी साफ-सफाई व्यवस्था दुरूस्त रखी जाये। अस्पतालों के वेस्ट का भी नियोजित तरीके से नियमानुसार निस्तारण सुनिश्चित करने को कहा। स्वास्थ्य विभाग प्राथमिक सेवा के अन्तर्गत आता है अतः सभी का दायित्व है कि स्वास्थ्य केन्द्रों एवं उनके सम्पर्क मार्गों इत्यादि पर बेहतर व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जायें। उन्होंने सभी अध्यक्षों को यह भी प्रेरित किया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, ए0एन0एम0 उप केन्द्र को गोद लेकर उनमें व्यवस्थाएं सुनिश्चित करायें।  जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये कि अस्पताल के सम्पर्क मार्गों की स्ट्रीट लाईटों को ठीक कराया जाये तथा परिसरों में पानी की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाये। जिलाधिकारी ने सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया कि उपलब्ध संसाधनों का बेहतर सदुपयोग करते हुये व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जायें। उन्होंने चेयरमैनों को निर्देश दिये कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों या प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर यदि डाक्टरों उपस्थित नही होते हैं तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी को तत्काल सूचित करें तथा अस्पतालों में आने वाली समस्याओं के विषय में तत्काल मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं अपर जिलाधिकारी को अवगत करायें। नियमित रूप से सुबह के समय स्वास्थ्य केन्द्रों के निरीक्षण के साथ-साथ नगर की सफाई व्यवस्था भी देखें। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन में भी सहयोग सभी नगर पालिका/नगर पंचायत अध्यक्षों से अपेक्षित है। जिलाधिकारी ने सभी को स्कूल, अस्पतालों एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थलों पर बेहतर सुविधाएं, साफ-सफाई, रंगाई पुताई आदि सुनिश्चित करने हेतु जन सहयोग से प्रयास करने हेतु प्रेरित किया जिससे हमारी भावी पीढ़ी एवं हमारे बच्चों का भविष्य सुरक्षित हो सके। जिलाधिकारी ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य के संसाधनों में जन सहयोग अति आवश्यक है। नगरीय निकायों के अध्यक्षों के इसमें शामिल होने से शिक्षा एवं स्वास्थ्य को गुणवत्तापूर्ण बनाया जा सकेगा, जिससे संविधान के 74वें संशोधन में जो अपेक्षा की गयी है उसको पूरी निष्ठा के साथ पूर्ण किया जा सकेगा।   जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश दिये कि सफाई कर्मचारियों का क्षेत्र निर्धारित करते हुये उस क्षेत्र में सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने का दायित्व उन्हें दिया जाये तथा उसकी नियमित रूप से निगरानी की जाये। लापरवाही करने पर अथवा अनुपस्थित रहने पर संबंधित के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही की जाये। उन्होंने कहा कि वर्षा से पूर्व सभी नालों की सफाई अनिवार्य रूप से की जाये तथा जलापूर्ति हेतु चल रही पाईप लाइनों का परीक्षण अवश्य करा लिया जाये। उन्होंने कहा कि कचरा एक स्थान से हटाकर दूसरे स्थान पर डालनें की प्रक्रिया बन्द करते हुये कचरे का पूर्ण रूप से निस्तारण कराया जाना सुनिश्चित किया जाये। गीले कचरे को कम्पोस्ट बनाकर पार्कों में पौधरोपण के उपयोग में लिया जाये। जलभराव की समस्या का पूर्ण निस्तारण सुनिश्चित किया जाये। मच्छरों से उत्पन्न रोगों जैसे डेगूं, मलेरिया, चिकनगुनिया आदि पर प्रभावी नियंत्रण के लिये फागिंग करायी जाये तथा एंटीलार्वा का छिड़काव कराया जाये। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये कि मुख्य मार्ग, बाजार आदि स्थानों पर सफाईकर्मियों की तैनाती मानक के अनुसार की जाये तथा जहां ज्यादा सफाई की जरूरत है वहां पर कड़ी निगरानी रखी जाये।  बैठक के दौरान अपर जिलाधिकारी विनय कुमार पाठक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 मधु गैरोला, सभी अधिशासी अधिकारी एवं नगरीय निकायों के अध्यक्ष व संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।