जल जीवन मिशन योजना के लिए भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित कराए एसडीएम -डीएम आशुतोष निरंजन
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया - जल जीवन मिशन की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि इसकी कार्य परियोजनाओं के लिए जहां जो जमीन उपयोगी न हो, उसका परीक्षण पुनः सुनिश्चित कराएं और अनुपयोगी पाए जाने पर दूसरी जगह उपयोगी जमीन इस योजना के लिए उपलब्ध कराएं। उन्होंने निर्देश दिया कि जिन जगहों पर अभी भूमि उपलब्ध नहीं हो पाई है, वहां लेखपालों को लगा कर के तत्परता से भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। यह अत्यंत ही महत्वपूर्ण जनोपयोगी योजना है, इसमें किसी प्रकार का अविलंब न हो, इसका विशेष रुप से ध्यान रखे जाएं। साथ ही जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया है कि जिन योजनाओं में जमीन उपलब्ध हो गए हैं, वहां डीपीआर बनाने की भी कार्यवाही तत्कालिक रूप से सुनिश्चित किए जाए, ताकि उसका समिति परीक्षण कर, उसे शासन को भेज सकें। समीक्षा में यह पाया गया कि 130 डीपीआर तैयार कर लिए गए हैं, जो शासन को समिति द्वारा अनुमोदित कर भेजे जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त 48 और फर्मों द्वारा डीपीआर तैयार किए जा चुके है। जिलाधिकारी ने इसका परीक्षण कर अगली मीटिंग में डीपीआर प्रस्तुत किए जाने का निर्देश दिया। बैठक में सी आर ओ अमृत लाल बिंद,उप जिला अधिकारी गण, अधिशासी अभियंता जल निगम प्रदीप चौरसिया, गायत्री प्राइजेज एव एलसी इंफ्रा फर्म के प्रतिनिधि गण, जल निगम विभाग के अवर अभियंता एवं अन्य विभागों के संबंधित अधिकारी आदि इस गूगल मीट से जुड़े रहे