स्वास्थ्य के प्रति  सजग रहे हृदय व मधुमेह रोगी*
- तनावमुक्त रहने के लिए करें प्रयास, कोरोना से बचने के लिए बरतें सावधानी - बहुत आवश्यक हो तभी घर से सुरक्षा उपायों के साथ निकलें बाहर संतकबीरनगर, 10 जून 2021। लॉकडाउन तथा अन्य वजह से लोगों के अन्दर तनाव बढ़ा है, ऐसे में हृदय व मधुमेह रोगी भी इससे अछूते नहीं हैं। मधुमेह और हृदय रोगियों के कोरोना की चपेट में आने का अधिक खतरा रहता है। ऐसे में उन्हें विशेष सावधानियां बरतनी होंगी। अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहना होगा। वह पूरी तरह से तनावमुक्त रहें तथा विशेष परिस्थितयों में भी अगर घर से बाहर निकलें तो पूरे सुरक्षा उपायों के साथ निकलें। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र खलीलाबाद के वरिष्ठ परामर्शदाता डॉ. आलोक शर्मा ने यह बातें कहीं। उनहोने कहा कि कोरोना ने हर उम्र के लोगों को प्रभावित किया है । जिन लोगों को हृदय और मधुमेह जैसी बीमारियां हैं उन्हें कोरोना वायरस से खतरा ज़्यादा होता है। इसके लिए यह ज़रूरी नहीं कि उनको कोरोना वायरस का संचरण दूसरों के मुक़ाबले जल्दी हो जाए लेकिन कोविड हो जाने के बाद हालत अन्य मरीज़ों से ज़्यादा गंभीर हो सकती है। धीरे – धीरे परिस्थिति सामान्य हो रही है। स्वयं को तनाव मुक्त रहने के लिए घर में ही वॉक और योग, मेडिटेशन करें । कोविड के मामले घटे जरूर हैं लेकिन खत्म नहीं हुए है । इसलिए कोविड नियमों का पालन जरूर करें ,भीड़ का हिस्सा न बनें । शारीरिक दूरी बना कर रहें, बाहर जाने पर दोहरे मास्क का प्रयोग करें । सावधानी और सतर्कता से ही कोरोना पर विजय पाई  जा सकती है। *हृदय रोगी इस बात का रखें ध्यान* ह्दय रोगी जैसे – घर पर रहें, फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें। परिवार के साथ समय बिताएं और पूरी तरह से चिन्तामुक्त जीवन व्यतीत करें। ह्दय रोगी अपना अतिरिक्त ध्यान रखें, स्वयं को छोटे-छोटे कामों में व्यस्त रखें। डिजिटल मशीन से बीपी चेक कर सकते हैं।  बीपी घटा या बढ़ा होने पर तनाव न लें। परेशानी होने पर अपने चिकित्सक से सम्पर्क करें। दिनचर्या और सोने-जागने का समय वैसे ही रखें, जैसे पहले था और पूरी नींद लें। खाना और दवाइयों को लेकर लापरवाही न बरतें। *मधुमेह रोगी इन बातों का रखें ध्यान* मधुमेह के रोगी सुबह - शाम घर के बालकनी या छत पर जरूर टहलें, साथ ही योगा करें। हरी सब्जी, मौसमी फल का सेवन करें । आलू ,चीनी ,चावल से परहेज करें। अगर खांसी, बुखार, सांस लेने में दिक्क़त होती है, तो घर में ही अपना ब्लड शुगर नापते रहें, शुगर की रिपोर्ट फोन से अपने चिकित्सक को बताएं तथा उसकी सलाह पर ही कोई दवा लें । *भोजन में करें बदलाव* डॉ. शर्मा ने बताया कि घर में बैठे लोगों की कैलोरी बढ़ रही होगी, ऐसे में उन्हें अपनी भोजन में बदलाव करें। खाने में प्रोटीन की मात्रा बढ़ा दें।  दालें और हरी सब्जी, ताजे फल खाएं , रोटी-चावल कम कर दें। नमक का सेवन कम कर दें । हल्का गुनगुने पानी का ही सेवन हमेशा करें।