विश्व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्या पर प्रकृति प्रेमी मिथिलेश ने प्राथमिक विद्यालय में रोपित किए पौधे*
बिछिया बहराइच से अभयजीत प्रजापति की रिपोर्ट बिछिया(बहराइच)-प्रकृति प्रेमी गौरैया संरक्षक मिथिलेश जायसवाल ने विश्व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्या पर शुक्रवार को गांव के प्राथमिक विद्यालय में आम व नीम के पौधे रोपित कर पर्यावरण बचाने का संदेश दिया | विकासखंड बलहा के ग्राम पंचायत गुलरा के भज्जापुरवा गांव निवासी साहित्य सेवी ,गौरैया संरक्षक पर्यावरण एवं प्रकृति प्रेमी मिथिलेश जायसवाल ने गांव में ही स्थित प्राथमिक विद्यालय में नीम व आम के पौधे रोपित कर पर्यावरण बचाने का संदेश दिया, मिथिलेश ने बताया कि आज हमने अपने गांव के प्राथमिक विद्यालय भज्जापुरवा में नीम आम के पौधे रोपित किए हैं तथा उनकी सुरक्षा के लिए ईट से पौधों का घेराव कर दिया है ,मिथिलेश ने कहा कि प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है, इसका संरक्षण करना हम सबकी जिम्मेदारी है ,यदि प्रकृति नहीं बची तो धरती पर मानव जीवन संभव नहीं है ,हाल ही में कोविड महामारी में जिस तरह ऑक्सीजन के लिए मारा मारी पड़ी थी उसका नतीजा हम सब ने देखा है ,ना जाने कितने लोगों की जान ऑक्सीजन के चलते चली गई ,इसलिए अपने जीवन काल में अधिक से अधिक पौधे लगाएं और पर्यावरण को बचाएं, ज्ञात हो कि मिथिलेश जायसवाल दोनों पैरों से दिव्यांग हैं,दिव्यांगता के बावजूद गौरैया संरक्षण पौधरोपण एवं साहित्य सृजन में लगे हुए हैं ,पिछले वर्ष इनके कार्यों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने इन्हें राज्य स्तरीय पुरस्कार देकर सम्मानित किया था ,जनपद में पर्यावरण एवं वन्यजीव संरक्षण पर काम करने वाली संस्था कतर्नियाघाट फ्रेंड्स क्लब के सदस्य है,पौधरोपण कार्यक्रम में अम्बर लाल जायसवाल,राम प्रताप जायसवाल ,जगदीश वर्मा ,विजय जायसवाल, प्रमोद,मनोज ,माता प्रसाद ,राममूरत,राजा बाबू, कमला प्रसाद आदि लोग उपस्थित रहे ,सभी ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया !