गूगल मीट के माध्यम से डीएम ने की पशुपालन विभाग के कार्यों की समीक्षा
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया- जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन गूगल मीट के माध्यम से पशुपालन विभाग की एक-एक कार्य योजनाओं की गहन समीक्षा किए। इस दौरान उन्होंने देसही देवरिया ब्लाक के पशु चिकित्सक की ओपीडी प्रगति काफी कम पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त की और इनसे स्पष्टीकरण तलब किए जाने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने सभी पशु चिकित्सा अधिकारियों को यह स्पष्ट रूप से निर्देशित करते हुए कहा कि प्रतिदिन ओपीडी में 25 पशुओं का इलाज करना अनिवार्य होगा, अन्यथा ऐसे शिथिल पशु चिकित्सा अधिकारियों पर भी कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी श्री निरंजन गौ आश्रय केंद्रों के निर्माण एवं निराश्रित गोवंशो के संरक्षण की भी समीक्षा के दौरान निर्देश दिया कि पशुओं के चारे आदि की कहीं कोई कमी नहीं होनी चाहिए सभी गौ आश्रय केंद्र सक्रिय होने चाहिए। जिलाधिकारी ने गोवंशो के इयर ट्रेकिंग कार्य को शत-प्रतिशत किए जाने का निर्देश मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा विकास साठे को दिया। मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा बताया गया कि 97 प्रतिशत ईयर ट्रेकिंग का कार्य पूरा किया गया है। उन्होंने पोल्ट्री फर्मों को बढ़ावा देने पर बल देते हुए कहा कि ऐसे फॉर्म संचालकों से गूगल मीट भी आयोजित मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी कराएं। जिलाधिकारी श्री निरंजन वैक्सीनेशन कार्यों की लक्ष्यपूर्ति माह जुलाई तक हर हाल में किए जाने का निर्देश दिया। उन्होंने पशु विभाग की संचालित योजनाओं की समीक्षा के दौरान ऐसे गौ आश्रय केंद्र जो निर्माणाधीन है, उसे प्राथमिकता के साथ पूरा कराए जाने और उनमें यदि जलजमाव की स्थिति हो तो उसे दूर किए जाने का निर्देश दिया। सीवीओ द्वारा बताया गया कि संभावित बाढ़ के दृष्टिगत 24 पशु बाढ़ चौकियां स्थापित कर ली गई है। भूसा प्रबंधन के लिए टेंडर भी कर लिया गया है। बैठक में नगर पालिका एवं नगर निकाय के अधिशासी अधिकारी, पशु चिकित्सा अधिकारी गण व अन्य संबंधित अधिकारी आदि जुड़े रहे।