देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों को नमन करने से आत्मबल बढ़ता है -प्रभुनाथ चौहान*
कृपा शंकर यादव की रिपोर्ट
गाजीपुर। देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों को नमन करने से आत्मबल बढ़ता है। उनके कृतियों को याद करने से राष्ट्र समाज के लिए कुछ करने की प्रेरणा मिलती रहती है। उपरोक्त बातें उत्तर प्रदेश पिछड़ा वर्ग आयोग उपाध्यक्ष प्रभुनाथ चौहान ने महावीर चक्र विजेता शहीद रामउग्रह पाण्डेय की मूर्ति पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा। उन्होंने कहा कि हमारा क्षेत्र सौभाग्यशाली है यह वीरों की धरती है जहां परमवीर चक्र अब्दुल हमीद, महावीर चक्र रामउग्रह पाण्डेय के साथ ही स्वामी सहजानंद सरस्वती जैसे किसान हित चिंतक अवतरित हुए। हमें इन वीर सपूतों कर्तव्यपरायण व्यक्तित्व से सीख लेकर जनकल्याण कार्य करने की प्रेरणा मिलती है। महावीर चक्र विजेता रामउग्रह पांडेय के पैतृक ग्राम स्थित शहीद पार्क पहुंचकर प्रभुनाथ चौहान ने उनकी नेत्रहीन पुत्री सुनीता पांडे को अंगवस्त्रम देकर सम्मानित किया। उन्होंने शहीद परिवार के प्रति कृतज्ञता का भाव प्रकट किया। वही शहीद रामउग्रह पांडे सहादत सम्मान समिति अध्यक्ष श्रीराम जायसवाल व अनिल पाण्डेय द्वारा नवनियुक्त दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री को पुष्पगुच्छ अंग वस्त्र देकर स्वागत किया गया। गौरतलब हो कि प्रभुनाथ चौहान को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पिछड़ा वर्ग आयोग का उपाध्यक्ष बनाते हुए दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री बनाया गया है। जिनका सोमवार को जखनियां तहसील मुख्यालय पर प्रथम आगमन रहा। इस दौरान भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं सहित स्थानीय लोगों ने उन्हें फूल मालाओं से लाद दिया। इसके साथ ही जखनिया कस्बा सहित जगह-जगह स्वागत सम्मान किया गया। प्रभुनाथ चौहान द्वारा शहीद रामउग्रह पांडेय पार्क, सिद्धपीठ भुड़कुड़ा मठ, सिद्धपीठ हथियाराम मठ के दर्शन पूजन के साथ ही बेलहरा, रायपुर मोड़, सनशाइन पब्लिक स्कूल जखनिया, सीखड़ी, भुड़कुड़ा, परसपुर सहित कार्यकर्ताओं के साथ भ्रमण कार्यक्रम किया गया। इस अवसर पर प्रमुख रूप से अनिल कुमार पांडेय विपिन कुमार सिंह, सुशील सिंह, बीके चौहान, अवधेश यति, शिव किशोर सिंह, योगेंद्र शर्मा, वीरेंद्र चौहान, दीनानाथ खरवार, जितेंद्र सिंह, प्रमोद वर्मा, संतोष यादव, उमाशंकर यादव इत्यादि उपस्थित रहे।