मां माधुरी यादव को निर्विरोध देवकली ब्लाक प्रमुख बनवाकर उपेंद्र ने अपनी राजनीतिक रणनीति का मनवाया लोहा
सुभाष सिंह यादव की रिपोर्ट ‌
गाजीपुर। ब्‍लाक प्रमुख के चुनाव में सबसे ज्‍यादा चर्चा देवकली ब्‍लाक के प्रमुख माधुरी यादव की रही। जिन्‍होने पति के जेल में रहने के बावजूद भी निर्दल दोबारा प्रमुख की कुर्सी पर कब्‍जा कर यह संदेश दिया कि रामधारी पहलवान के वंशज अभी राजनीति में जिंदा हैं। ज्ञातव्‍य है कि स्‍व. रामधारी पहलवान लगातार देवकली ब्‍लाक पर 40 वर्षो तक प्रमुख रहे। इसके बाद 2010 में पहली बार शिक्षक नेता सच्‍चेलाल यादव ने कांटे की टक्‍कर में अपने पत्‍नी माधुरी यादव को प्रमुख सीट पर बैठाया। इस प्रमुखी चुनाव में शिक्षक नेता सच्‍चेलाल यादव जेल चले गये इसके बाद उनकी कमान उनके पुत्र उपेंद्र लाल यादव ने संभाली। उमर कम होने के बावजूद उपेंद्र ने पिता की विरासत बखूबी संभाली और अपने मिलनसार और सरल स्‍वभाव से उपेंद्र पूरे ब्‍लाक में प्रसिद्ध हो गये। सभी राजनीतिक दलों के लोग उन्‍हे सम्‍मान देने लगे। उपेंद्र ने कुशल रणनीति के तहत समीकरण बनाया और अपनी मां को निर्विरोध ब्‍लाक प्रमुख बनाकर जिले में अपनी सियासी ताकत का ऐहसास कराया।