डीएम ने की आईजीआरएस एवं शिकायती संदर्भों के निस्तारण की समीक्षा
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट
देवरिया- जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने आईजीआरएस, मुख्यमंत्री संदर्भ एवं ऑनलाइन प्रकरणों के निस्तारण की समीक्षा के दौरान यह स्पष्ट निर्देश दिया है कि किसी भी स्थिति में कोई भी प्रकरण डिफाल्टर की श्रेणी में नहीं होनी चाहिए। जिस अधिकारी एवं विभाग को जो शिकायती प्रकरण प्राप्त हो, उसका त्वरित निस्तारण अनिवार्य रूप से सुनिश्चित करेंगे। किसी भी दशा में कोई शिथिलता क्षम्य नहीं होगी। जिलाधिकारी श्री निरंजन गूगल मीट के माध्यम से शिकायती प्रकरणों के निस्तारण की समीक्षा कर रहे थे । उन्होंने यह भी निर्देश देते हुए कहा कि आगामी 2 दिनों तक सभी प्रकरणों का निस्तारण अनिवार्य रूप से करना होगा, अन्यथा कार्यवाही होगी। उन्होंने अपर जिलाधिकारी प्रशासन को निर्देश दिया कि इस समय के उपरांत जिस विभाग में लंबित प्रकरण पाया जाए तो संबंधित अधिकारी के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई किए जाने हेतु पत्रावली प्रस्तुत करेंगे। जिलाधिकारी ने सभी विभागों के लंबित एक एक प्रकरणों के निस्तारण की समीक्षा की तथा कहा कि शिकायतों के निस्तारण में किसी भी स्थिति में कोई कोताही व शिथिलता नहीं होनी चाहिए। इस बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन कुंवर पंकज ने सभी विभागों के लंबित प्रकरणों के निस्तारण की एक-एक मामले को प्रस्तुत किया। सभी अधिकारियों से अपेक्षा किया कि वे जिलाधिकारी द्वारा दिए गए निर्देशों का अक्षरश: पालन करते हुए शीघ्रता के साथ प्रकरणों का निस्तारण करेंगे। इस बैठक में उप जिलाधिकारी गण, जिला विकास अधिकारी श्रवण कुमार राय, परियोजना निदेशक संजय पांडेय, खंड विकास अधिकारी, अधिशासी अधिकारी गण सहित सभी विभागों के अधिकारी जुड़े रहे