न्यायाधीशों की टीम ने राजकीय बाल गृह तथा पाथ वात्सल्य खुला आश्रय गृह का किया औचक निरीक्षण
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया-अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण तथा न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा शुक्रवार को राजकीय बाल गृह तथा पाथ वात्सल्य खुला आश्रय गृह का औचक निरीक्षण किया अपर जनपद न्यायाधीश रजनीश कुमार ने कहा कि बच्चों के उनके समय के अनुसार उचित खान-पान की व्यवस्था की जायें। उन्होंने राजकीय बाल गृह देवरिया के अधीक्षक यशोदानंद तिवारी को निर्देश दिया कि इस वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान बच्चों को नियमित व्यायाम कराये जायें जिससे कि उनके अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता बनी रहें। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सूर्यकान्त धर दूबे ने राजकीय बाल गृह देवरिया में बच्चों के सोने हेतु उनके विश्रामालय, उन्होंने बच्चों के भोजन हेतु उनके खाद्य सूची का निरीक्षण करते हुये पौष्टिक आहार रखने का निर्देश दिया। बच्चों को मुॅह पर बाॅधने हेतु रूमाल, तौलिये या मास्क का हमेशा उपयोग करायें, भोजन करने से पहले खुद को सेनेटाईज कर लें -समय पर ताजे फलों तथा बच्चों को साफ-सुथरे कपड़े व साफ-सफाई पर विशेष दिशा-निर्देश दिये। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के सचिव न्यायाधीश आरिफ निसामुद्दीन खान ने कहा कि इस महामारी के दौरान बच्चों के स्वास्थ्य के लिए उनकी नियमित जाॅच किये जाने की आवश्यकता हैं, क्योंकि इस समय बढ़ते कोरोना वायरस के दौरान सबकों सतर्क रहने की जरूरत हैं। उनको इस वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव हेतु उनको सोशल डिस्टेंसिंग का भरपूर पालन कराया जायें। उन्होने कहा कि तथा समय-समय पर अपने हाथों को साबुन से धोये।न्यायिक मजिस्ट्रेट स्वर्णमाला सिंह ने कहा कि बच्चों को उनके उम्र के हिसाब से कक्षाओं में दाखिला दिया जाए इस निरीक्षण में मुख्य रूप से अपर जनपद न्यायाधीश रजनीश कुमार, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सूर्यकान्त धर दूबे, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश आरिफ निसामुद्दीन खान, न्यायिक मजि हैस्ट्रेट स्वर्णमाला सिंह जिला परिवीक्षा अधिकारी प्रभात कुमार, राजकीय बाल गृह के अधीक्षक यशोदानंद तिवारी उपस्थित रहें।