डीएम ने की भूमि अधिग्रहण और पुनर्ग्रहण कार्यों के प्रगति की समीक्षा
कमलाकर मिश्न की रिपोर्ट
देवरिया - जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने गूगल मीट के माध्यम से भूमि अधिग्रहण और पुनर्ग्रहण कार्यों के प्रगति की समीक्षा किया। उन्होनेे प्रस्तावित 104 स्वास्थ्य उपकेंद्र स्थापित करने के लिए चिकित्सा विभाग से कोई प्रस्ताव न आने पर गहरी नाराजगी व्यक्त किया। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने जनहित से जुड़े हुए कार्यों में जैसे कि अस्पताल, नहर, स्टेडियम एवं अन्य विकासात्मक गतिविधियों के लिए भूमि उपलब्ध कराने हेतु जनता से गुरेज न करने की अपील किया। उन्होने भूमि अधिग्रहण से जुडे मुद्दो को प्राथमिकता के आधार पर क्रियान्वित कराने हेतु अधिकारियों को निर्देशित किया। भूमि अधिग्रहण से जुड़े मुद्दे पर एसडीएम सदर सौरभ सिंह ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि हथुआ-भटनी रेल परियोजना में आपत्ति की वजह से जो धनराशि रेलवे से आई थी, उसे रेलवे को वापस कर दिया गया है। इसी तरह कांडला-गोरखपुर एलपीजी पाइपलाइन के लिए 685 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण होना है, जो कि समयान्तर्गत पूर्ण कर लिया जाएगा। जिलाधिकारी ने आईओसीएल बैतालपुर एक्सटेंशन के प्रस्ताव को हर संभव सहयोग देने का आश्वासन दिया। उन्होनेे अधिकारियों से एआरटीओ के कार्यालय , आयुर्वेदिक चिकित्सा उपकेंद्र, मिनी स्टेडियम, पीसीएफ गोदाम, अग्निशमन केंद्र और न्याय विभाग के परिवार न्यायालय स्थापित करने के लिए राजस्व विभाग को शीघ्र भूमि उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी श्री निरंजन ने ड्रग वेयरहाउस के स्थापना के लिए 5000 वर्ग मीटर जमीन तलाशने का निर्देश भी एसडीएम सदर को दिया। बैठक में मुख्य राजस्व अधिकारी अमृत लाल बिंद, एसडीएम सदर सौरभ सिंह, सीएमओ डा0 आलोक पाण्डेय, आईओसीएल और आईएचबी के प्रतिनिधि सहित संबंधित विभाग के अधिकारी गण आदि जुडे रहे।