जिलाधिकारी ने विकास खंड सदर कार्यालय का किया औचक निरीक्षण
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट
देवरिया- जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन विकास खंड सदर कार्यालय का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होने पूरे कार्यालय परिसर, कार्यालय पटल का निरीक्षण कर कार्य प्रगतियों को जाना एवं साफ सफाई की सुदृढ व्यवस्था के साथ ही अभिलेखों को सुव्यवस्थित ढंग से रखे जाने का निर्देश दिया। निरीक्षण में दो पंचायत सचिवों का कार्य में शिथिलता पाए जाने पर वेतन रोका गया तथा एक पंचायत सचिव द्वारा स्थानान्तरण के उपरान्त चार्ज नही दिए जाने के पर उसे निलंबित व आरोप पत्र दिए जाने का निर्देश उन्होने दिया। जिलाधिकारी श्री निरंजन ने एडीओ पंचायत कार्यकक्ष के निरीक्षण के दौरान आलमारियों को खुलवा कर देखा, अभिलेखो को सुव्यवस्थित रखे जाने का निर्देश दिया। इस कक्ष में खराब पडे पंखा व लाइट को भी बनवाए जाने को कहा। इस कक्ष में बंद एक आलमारी के संबंध में बताया गया कि इसमें ग्राम विकास अधिकारी उदित नारायण द्वारा अभिलेख रखे गए है, जिनका स्थानान्तरण विकास खण्ड बनकटा में हो चुका है। अभी चार्ज नही दिया गया है, जिस पर जिलाधिकारी कडी नाराजगी व्यक्त की तथा इन्हे निलंबित किए जाने तथा आरोप पत्र देने का निर्देश जिला विकास अधिकारी श्रवण कुमार राय को दिया। इसके उपरान्त वरिष्ठ सहायक नरेन्द्र देव के पटल कार्य का जायजा लिया। सेवा पुस्तिका व जीपीएफ पासबुक को देखा। उन्हे इसे अद्यतन रखे जाने का निर्देश दिया। लेखा पटल के निरीक्षण में उन्होने आय व्यय पंजिका का निरीक्षण किया। पंजिका को अपडेट रखे जाने को कहा। मनरेगा सेल, कम्प्यूटर कक्ष, एपीओ कार्यकक्ष सहित पूरे ब्लाक परिसर का निरीक्षण किए व आवश्यक निर्देश दिए। जिलाधिकारी श्री निरंजन प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण एवं मुख्यमंत्री आवास योजना के कार्य प्रगतियों का भी जायजा लिया। दो ग्राम विकास अधिकारी ओम प्रकाश गुप्ता एवं शकुन्तला देवी के कार्य शिथिल व असन्तोषजनक पाए गए जिसके लिए उनका वेतन रोके जाने का निर्देश दिया गया। सामुदायिक शौचालय निर्माण के प्रगति जायजा में बताया गया कि 96 सामुदायिक शौचालय बनाए जाने है, 86 जगहों पर कार्य संचालित है, जिसमें 78 पूर्ण कर लिए गए है, 8 पर अभी कार्य चल रहा है, जिसमें 57 सामुदायिक शौचालय को स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को उसके संचालन व देखरेख के लिए हैण्डओवर कर दिया गया है। उन्होने यह स्पष्ट रुप से निर्देश देते हुए कहा कि सामुदायिक शौचालयों के हैण्डओवर में शासनादेश के प्राथमिकता अनुसार अक्षरशः पालन करते हुए यह ध्यान रखा जाए कि जरुरतमंद व्यक्ति को ही हैण्डओवर किए जाए जो उसका समुचित देखरेख कर सके, अन्यथा इसमें किसी भी प्रकार का यदि विचलन पाया जाएगा तो इसके लिए एडीओ आइएसबी की जिम्मेदारी तय की जाएगी। उन्होने गार्डफाइल, निरीक्षण पंजिका, मास्टर रजिस्टर, सहित अन्य अभिलेखों का भी निरीक्षण किए। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के प्रगतियों से अवगत कराते हुए बताया गया कि इस ब्लाक अन्तर्गत 226 आवास बनाए जाने है। 212 को प्रथम किश्त वितरित कर दिया गया है। 14 में अभी कार्य शुरु नही हुआ है। जिलाधिकारी ने एडीओ पंचायत को अनारम्भ इस आवासों का प्रभावी अनुश्रवण किए जाने का निर्देश दिया। कहा कि किन कारणो से कार्य शुरु नही है, यह स्पष्ट होना चाहिए। जिलाधिकारी ने राष्ट्रीय आजीविका मिशन सेल में पहुॅचे, तैनात तीन ब्लाक मिशन प्रबंधक ज्योति बरनवाल, पूनम गुप्ता व श्वेता तिवारी के कार्यो का अलग-अलग फीडबैक लिया तथा उन्हे महिला समूहों के गठन, उनके बैकिंग सहायता आदि कार्यो को महिलाओं में जागरुकता लाए जाने सहित प्राथमिकता के साथ सुनिश्चित किए जाने का निर्देश दिया। खण्ड विकास अधिकारी व जिला कार्यक्रम अधिकारी कृष्णकान्त राय ने पूरे ब्लाक परिसर सहित सभी कार्य पटलो का निरीक्षण में जिलाधिकारी को कार्य सन्दर्भो के अद्यतन स्थिति से अवगत कराते रहे। निरीक्षण के समय एडीओ पंचायत चन्द्रभूषण तिवारी, एडीओ आईएसबी राजीव मोहन तिवारी, एपीओ रीतुदीप सिंह सहित ब्लाक कर्मी गण आदि उपस्थित रहे।