जिला पंचायत की बोर्ड बैठक में छाया रहा बिजली कटौती व सड़कों के जर्जर होने का मुद्दा
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट देवरिया-जिला पंचायत की बोर्ड की बैठक जिला पंचायत सभागार जिला पंचायत अध्यक्ष गिरीशचंद्र तिवारी की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में बिजली कटौती व सड़क की खराबी का मुद्दा छाया रहा। सदस्यों ने एक स्वर में खराब बिजली की व्यवस्था बेहतर करने के साथ-साथ सड़कों की मरम्मत की मांग की।वही बैठक में गंडक विभाग के अधिशासी अभियंता को भी बुलाने की मांग पर मुख्य विकास अधिकारी रविंद्र कुमार ने अगली बैठक में उनको बुलाने का निर्देश देते हुए सदस्यों को आशान्वित किया।बैठक के दौरान विभिन्न कारणों से विभिन्न ग्राम पंचायतों के वार्ड सदस्यों का इस्तीफा भी स्वीकार करने पर अनुमति चाही गई जिसको सर्वसम्मति से पास किया गया।बैठक के दौरान जिला पंचायत के निरीक्षण गृह के सामने एक अन्य दूसरा 2 सेट का निरीक्षण कक्ष बनाने की भी स्वीकृति पास की गई।बैठक के दौरान जिला पंचायत सदस्य कमलेश पांडे ने कहा कि जिला पंचायत की भूमि जिला पंचायत की संपत्ति है,अन्य विभाग को न दिया जाए तथा जिला पंचायत की करौंदी में 30 डिसमिल भूमि को व बैकुंठपुर में 4 एकड़ भूमि पर भूमाफियाओ का अवैध कब्जा है,उसको खाली कराया जाए जिस पर अपर मुख्य अधिकारी ज्ञान धन सिंह ने कहा कि 1 माह के अंदर भू माफियाओं के अवैध कब्जे से भूमि को खाली करा दिया जाएगा। सदस्य श्री पांडे के साथ साथ जिला पंचायत सदस्य अखंड प्रताप सिंह ने कहा कि पूर्व की परंपरा को कायम रखते हुए यदि सदस्य चाहे तो समितियों के गठन का अधिकार जिला पंचायत अध्यक्ष में ही निहित कर दिया जाए जिस के क्रम में जिला पंचायत सदस्य द्वारा 6 समितियों के सभापति व सदस्य का चयन करने हेतु जिला पंचायत अध्यक्ष को अधिकृत किया गया।बैठक के दौरान 15 वित्त आयोग वर्ष 2021-22 के अंतर्गत अनटाइड एवं टाइड़ ग्रांड धनराशि जो वित्तीय वर्ष 2021- 22 में प्राप्त होगी,हेतु जारी गाइड लाइन के अनुसार पृथक पृथक सदस्यों से प्राप्त प्रस्ताव के अनुसार वार्षिक कार्य योजना बनाने पर भी स्वीकृति की गई। साथ ही मुख्यमंत्री,शासन,प्रशासन, जनसुनवाई पोर्टल एवं अन्य प्राप्त प्रस्ताव को सदन के समक्ष प्रस्तुत करते हुए उस पर भी विचार किया गया। बैठक में इसके अलावा आकस्मिक व्यय नियमावली के अंतर्गत ₹5000 तक की सीमा अंतर्गत अध्यक्ष जिला पंचायत को धनराशि खर्च करने के लिए अधिकृत किया गया।बैठक के दौरान जिला पंचायत समिति की बाल सदन में पुराना दो कक्ष जो अत्यधिक जीर्ण शीर्ण हो चुका है को ध्वस्तीकरण करने पर भी विचार किया गया। इसके अलावा जिले के विकास हेतु सभी सदस्य को बैठक में उपस्थित जिला पंचायत अध्यक्ष व मुख्य विकास अधिकारी से पूरी पारदर्शिता और समानता पूर्वक कार्य कराने के लिये आशान्वित किया गया।बैठक में सलेमपुर सांसद रविंदर कुशवाहा, गन्ना विकास उपाध्यक्ष नीरज शाही, जिला पंचायत अध्यक्ष गिरीशचंद्र तिवारी, मुख्य विकास अधिकारी रविंद्र कुमार,सीएमओ डॉक्टर आलोक पांडे, मुख्य राजस्व अधिकारी अमृत लाल बिंद के अलावा तमाम अन्य विभागों के अधिकारी, जिला पंचायत सदस्य प्रताप सिंह कमलेश पांडे अशोक कुमार सिंह चौहान अखंड प्रताप सिंह अजीत कुमार सिंह धीरेंद्र प्रताप यादव काशीनाथ यादव बलराम विजय प्रताप रेनू रोली सुनीता शोभा कुसुम देवी अमित कुमार रजक विनय कुमार विमला देवी गीता देवी,जिला पंचायत के इंजीनियर, वित्तिय परामर्शदाता व अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।