डीएम ने मेगा क्रेडिट कैम्प का किया शुभारम्भ
कमलाकर मिश्र की रिपोर्ट
देवरिया- विकास भवन के गांधी सभागार में आज आयोजित मेगा क्रेडिट कैम्प का शुभारम्भ जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन द्वारा दीप प्रज्जवलन के साथ किया गया। इस दौरान 102 करोड़ का ऋण स्वीकृति पत्र व प्रतीक चेक वितरित किया गया। वित्त पोषित योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने एवं स्वालम्बन की दिशा में ऋण उपलब्ध करा कर अधिक से अधिक रोजगार एवं आर्थिक उन्नयन के लिए बेहतर वातावरण सृजित हो और लोग स्वालम्बी बने, इसके लिए आज वृहद ऋण शिविर का आयोजन किया गया। जनपद का लक्ष्य 100 करोड़ रुपए वितरण हेतु शासन द्वारा निर्धारित किया गया था। लक्ष्य से अधिक की पूर्ति 102 करोड़ ऋण स्वीकृति पत्र विभिन्न शासकीय योजनाओं यथा- पीएमइजीपी, एसएचजी, एमएसएमई, मुद्रा, एनआरएलएम इत्यादि योजनान्तर्गत लाभार्थियों को वित्त पोषित किया गया। लगभग 20 लाभार्थियों को क्रेडिट कैम्प में ऋण वितरण एवं स्वीकृति पत्र जिलाधिकारी द्वारा प्रदान किया गया। जिलाधिकारी श्री निरंजन ने सम्बोधन में कहा कि लाभार्थी ऋणराशि का सदुपयोग अपने आजीविका सृजन एवं स्वालम्बन के लिए करेें तथा निर्धारित समय पर उसकी वापसी भी करें। उन्होने कहा कि बैंक वित्त पोषित योजनाओं के माध्यम से लोगो के आर्थिक उन्नयन के लिए उनके साथ खड़ा है। संचालित योजनाओं को अपनाए और उसका लाभ उठाएं। उत्कृष्ट कार्य करने वाले बैकों को जिलाधिकारी ने यथा-सेन्ट्रल बैंक आफ इंडिया, पंजाब नेशनल बैंक, बडौदा यूपी बैंक, स्टेट बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। परियोजना निदेशक संजय पाण्डेय ने संचालित योजनाओं में बैकों के भूमिका पर प्रकाश डाला तथा उनके उद्बोधन उपरान्त बैठक की कार्यवाही समाप्त की गयी। अग्रणी जिला प्रबंन्धक ने जनपद के विकास में एवं गरीबी उन्मूलन योजनाओं में बैंक कर्मचारियों के कर्तव्य निर्वहन की भूरी-भूरी प्रशंसा की। सभा के अन्त में डीडीएम नाबार्ड के संचित सिंह ने नाबार्ड की योजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान विभिन्न बैकों के अधिकारी व प्रबंधक, स्वयं सहायता समूह की महिला लाभार्थी गण आदि मौजूद रहे।