वृक्ष ही बचाएंगे मानव सभ्यता:-मनोज कुमार (थाना प्रभारी शहाबगंज)
सुभाष सिंह की रिपोर्ट
पर्यावरण का संरक्षण एवं मानवता की सेवा में मातृभूमि सेवा ट्रस्ट का योगदान अतुलनीय.. सम्पूर्णानंद सिंह (प्रमुख व्यवसायी ) कोरोना की दूसरी लहर ने पर्यावरण में आक्सीजन की मात्रा की भारी कमी को उजागर कर दिया..(डा.रंजीत जायसवाल, मातृभूमि सेवा ट्रस्ट) पेड़ों की अंधाधुंध कटाई से अब लोगों में बढ़ती जा रही है,दम घुटने की समस्या ..सुबाष विश्वकर्मा (मातृभूमि सेवा ट्रस्ट) पेड़ हैं,तो हम हैं.. मातृभूमि सेवा ट्रस्ट के प्रयासों को दिल से शुभकामना---बदरुद्वजा अंसारी (प्रधान -एकौना) अमरसीपुर,एकौना,अमांव, शहाबगंज चन्दौली, मातृभूमि सेवा ट्रस्ट..1अगस्त 2021। प्रकृति के बिना मनुष्य के जीवन की कल्पना संभव नहीं है। जल-जंगल के बिना जन का जीवन संभव है क्या? साधारण बुद्धि का व्यक्ति भी इस प्रश्न का उत्तर जानता है। लेकिन, लालच से वशीभूत आदमी प्रकृति का संवर्द्धन करने की जगह निरंतर उसका शोषण कर रहा है। हालांकि वास्तविकता यही है कि वह प्रकृति को चोट नहीं पहुंचा रहा है, वरन स्वयं के जीवन के लिए कठिनाइयां उत्पन्न कर रहा है। देर से ही सही अब दुनिया को यह बात समझ आने लगी है। पर्यावरण बचाने के लिए दुनिया में चल रहा चिंतन इस बात का प्रमाण है। भारत जैसे प्रकृति पूजक देश में भी पर्यावरण पर गंभीर संकट खड़े हैं। प्रमुख नदियों का अस्तित्व संकट में है। जंगल साफ हो रहे हैं। पानी का संकट है। हवा प्रदूषित है। वन्य जीवों का जीवन खतरे में आ गया है। पर्यावरण बचाने की दिशा में गैर-सरकारी संगठन और पर्यावरणविद् एवं प्रेमी व्यक्तिगत स्तर पर कुछ प्रयास कर रहे हैं। लंबे संघर्ष के बाद उनके प्रयासों का परिणाम दिखाई भी दिया है। पर्यावरण के मसले पर समाज जाग्रत हुआ है। प्रकृति के प्रति लोगों को अपने कर्तव्य याद आ रहे हैं। पर्यावरण चिंतकों की ईमानदार आवाजों का ही परिणाम है कि सरकारों ने भी शुष्क क्षेत्र पर्यावरण पर गंभीरता से ध्यान देना शुरू किया है।ये बातें कही थाना प्रभारी शहाबगंज श्री मनोज कुमार ने।मौका था स्वयं सेवी संगठन मातृभूमि सेवा ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित "एक पेड़ अनेक जिन्दगी"अभियान के आयोजन का।आज विभिन्न प्रजातियों के कुल 1001पेड़ लगाये गये। जिसमें मातृभूमि सेवा ट्रस्ट के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में संगठन के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भीगते हुए वृक्षारोपण कार्य किया। संगठन ने पर्यावरण के लिए जागरुकता अभियान भी चलाया गया, जिसमें ग्राम एकौना एवं अमरसीपुर के लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया गया। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से मु.बदरुद्वजा अंसारी (ग्राम प्रधान एकौना) मु.सिरताज (ग्राम प्रधान अमरसीपुर),रीता पाण्डेय (अध्यक्ष राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ, चकिया), मु.आफताब कैमूरी, सत्यानंद रस्तोगी, संजीव कुमार सिंह (पूर्व प्रधान),नीलू, धर्मेन्द्र, मार्तंड गुप्ता,डा. गोविन्द तिवारी,अमजद भाई,अंकुर सिंह, गोपी, विवेक राय, शहजाद भाई,रिंकू विश्वकर्मा,अरशद उस्ताद,सतीश मौर्य (गोविंद स्वीट्स), देवराज मिस्त्री, संतोष श्रीवास्तव, अभिषेक सिंह डा. जसवन्त,बिनीत मालवीय, सौरभ, संजय पाल,शिवम सिंह,आलोक सिंह,प्रमोद सिंह, नरेंद्र यादव, राधेश्याम यादव,तसलीम भाई,गोलू,प्रखर सिंह, रियाज भाई, विशेश्वर राम, भगवान दास, रामदास,मोनू पासवान, बिनोद मौर्या,शन्नि चौहान,मैनू पासवान,राजू भाई, संजय कुमार सिंह इत्यादि लोग मौजूद रहे।