कही लूट के लिये हत्या तो कही दहेज और कही साइबर अपराध, इसके बाद भी नही दर्ज होता FIR, दोस्तपुर थाना पूरी तरह निष्क्रिय*
शिवम् गुप्ता की रिपोर्ट
*सुल्तानपुर । दोस्तपुर में यह कैसी हत्या ?? *लिखित तहरीर देने पर भी हत्या के 3 दिन बाद भी नहीं दर्ज हुआ दोस्तपुर थाने में मुकदमा, सांसद मेनका गांधी के फोन से पीड़िता को मिली उम्मीद की नई किरण*
*कप्तान के अरमानों पर फेर रहे पानी दोस्तपुर थानाध्यक्ष सत्येंद्र सिंह की नई कहानी* *छोटे-छोटे मामलों में भी पीड़ितों को जाना पड़ता है सांसद व SP के पास और लगाने पड़ते हैं कोर्ट के चक्कर, दोस्तपुर थाना पूरी तरह निष्क्रिय* *दहेज के लिए पत्नी को उतारा मौत के घाट, सिर्फ तीन माह हुआ विवाह के* *पति के पास फोन करके जान बचाने की गुहार लगाती रही पत्नी, आखिर पति ही निकल गया हत्यारा और कर दिया अपनी पत्नी की हत्या* दोस्तपुर। सुल्तानपुर जिले में इस समय घटना के मामलों में बहुचर्चित थाना दोस्तपुर जहां के थानाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार सिंह हैं, कप्तान साहब ने उनको बड़े अरमानों के साथ दोस्तपुर थाने की कमान सौंपी थी। इसलिए ताकि यहां पर किसी प्रकार की कोई घटना ना घटित हो सके और घटनाओं में कमी आए। लेकिन कप्तान साहब के सारे अरमानों पर पानी फिरता हुआ नजर आ रहा है और घटना के मामले में दोस्तपुर थाना इस समय जिले में टॉप पर चल रहा है। dostpur की जनता पूरी तरह भयभीत हो चुकी है कहीं पर bank franchise के ऊपर दिनदहाड़े हत्या तो कहीं पर दहेज के लिए हत्या तो कहीं पर हो रहे हैं, साइबर क्राइम अपराधी सक्रिय। आपको बताते चलें कि इतनी सब घटनाओं को होते हुए भी इस दहेज मामले में dostpur थाने में तहरीर नहीं दर्ज की गई जिसमें पीड़िता ने माननीय सांसद महोदय संजय मेनका गांधी के पास न्याय के लिए फोन किया और यहां लोकल लोगों से जैसे तैसे उनका नंबर प्राप्त किया तब सांसद महोदय के पहल से dostpur थाने की पुलिस हरकत में आई। लेकिन खबर लिखे जाने तक अभी तक dostpur थाने में मुकदमा नहीं दर्ज हुआ है। *क्या था मामला, आइए जानते हैं* राधेश्याम शर्मा पुत्र रामाश्रय शर्मा मोहल्ला वल्लीपुर थाना जहानागंज जिला आजमगढ़ का निवासी है, उसकी पुत्री शीतल शर्मा की शादी दिनांक 2 मई 2021 को विक्रांत शर्मा पुत्र सदाशिव शर्मा के साथ ग्राम उघड़पुर भटपुरा तालगांव थाना दोस्तपुर जिला सुल्तानपुर के साथ हिंदू रीति रिवाज के साथ किया था। क्षमता अनुसार दान दहेज भी दिया था, लेकिन शादी के कुछ ही दिनों बाद शीतल को सास बसंती देवी, ससुर सदाशिव शर्मा, जेठ विजय शर्मा पुत्र सदाशिव शर्मा जेठान साधना शर्मा पत्नी विजय शर्मा, देवर विवेक शर्मा पति विक्रांत शर्मा आए दिन दहेज में अपाची मोटरसाइकिल व पैसे की मांग करने लगे। मांग पूरी न कर पाने के कारण उक्त लोगों ने शीतल शर्मा की हत्या 2 अगस्त 2021 को कर दिया। *पीड़िता की बहन का आरोप थाने में तैनात D N yadav सब इंस्पेक्टर ने पीड़िता की बहन को डांट कर भगाया, पीड़िता की बहन सोनी ने सिर्फ यह जानकारी करनी चाही कि 3 दिन पहले तहरीर दिया गया था तो उस पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं किया गया इसी पर भड़के डी एन यादव* बड़ा सवाल? दो अगस्त को नामजद तहरीर देने के बाद भी दोस्तपुर थाने की पुलिस ने क्यों नहीं किया एफ आई आर दर्ज। इससे तो जहां पुलिस प्रशासन पर लोगों के विश्वास उठते हुए नजर आ रहे हैं तो दूसरी तरफ अपराधियों के हौसले भी बुलंद होते नजर आ रहे हैं अब ऐसे में लोगों में पुलिस प्रशासन पर विश्वास आखिर क्यों न उठे? अब देखना यह है कि सांसद महोदय की पहल के बाद यदि दोस्तपुर थाने की पुलिस एफ आई आर दर्ज भी कर लेती है तो पीड़िता के परिवार वालों को कहां तक इंसाफ मिल सकता है। खबर लिखे जाने तक अभी नहीं हुई थी, एफ आई आर दर्ज करने की पुष्टि