यूनियन बैंक क्षेत्रीय कार्यालय गाजीपुर द्वारा हिंदी दिवस समारोह 2021 का आयोजन
कृपाशंकर यादव
गाजीपुर 30 सितम्बर 2021- यूनियन बैंक क्षेत्रीय कार्यालय गाजीपुर द्वारा हिंदी दिवस समारोह 2021 का आयोजन, जिले के अग्रणी बैंक यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा बुद्धवार सायँ दिनांक 29.09.2021 को क्षेत्रीय कार्यालय गाजीपुर के सभागार में आयोजित किया गया, जिसके अंतर्गत हिन्दी में उत्कृष्ट कार्य करने वाली शाखाओं एवं स्टाफ सदस्यों को सम्मानित किया गया। समारोह में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया गाजीपुर क्षेत्र के उप क्षेत्र प्रमुख इश्तियाक अरशद, मुख्य प्रबंधक संजय कुमार (सी.आर.एल.डी) , संजय कुमार (परिचालन), आनंद कुमार (ऋण), अग्रणी जिला प्रबंधक सूरज कांत एवं गाजीपुर जिले की विभिन्न शाखाओं में कार्यरत अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन राजभाषा अधिकारी अनुराग कुमार सिंह के द्वारा किया गया। समारोह के दौरान सर्वप्रथम हिंदी संदर्भ साहित्य पत्रिका का विमोचन किया गया, उसके पश्चात वर्ष 2020-21 के दौरान राजभाषा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली शाखाओं एवं कर्मचारियों को पुरस्कृत किया गया, जिसमें सराय मुबारक,धावा मोहब्बतपुर, सादात रेल्वे स्टेशन शेखपुर, परजीपाह, आदि शाखाएं शामिल रहीं। उसके पश्चात दिनांक 15 अगस्त 2021से 14 सितंबर 2021 तक मनाए गए हिंदी माह के दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजयी कुल 38 प्रतिभागियों को उप क्षेत्र प्रमुख इश्तियाक अरशद एवं क्षेत्रीय कार्यालय के मुख्य प्रबंधकों ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया। अपने संबोधन में उप क्षेत्र प्रमुख इश्तियाक अरशद जी ने यह बताया कि हिन्दी हमारी राजभाषा और मातृभाषा दोनों ही है। अतः राजभाषा हिन्दी का कार्यान्वयन, इसका सम्मान, विकास, प्रचार-प्रसार और इससे संबंधित लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहयोग प्रदान करना हम सभी का नैतिक कर्तव्य है। साथ ही उन्होंने उपस्थित सभी स्टाफ सदस्यों से आग्रह किया कि वे अपने कार्यालय या शाखा में हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करें। शाखाओं के कामकाज में हिन्दी भाषा के प्रयोग के महत्व के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि हमारे क्षेत्र में हिन्दी हमारी जरूरत है और इसके बिना हम उत्तम ग्राहक सेवा नहीं प्रदान सकते हैं। गाजीपुर क्षेत्र के सुरक्षा अधिकारी, राजेन्द्र यादव के द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया। धन्यवाद ज्ञापन के दौरान उन्होंने सभी से आग्रह किया कि हिंदी का प्रयोग हमें हिंदी दिवस तक ही सीमित नहीं रखना चाहिए बल्कि हमें वर्ष का प्रत्येक दिन हिंदी दिवस के रूप में मनाना चाहिए।